देश इस वक्त कोरोना वायरस की महामारी का सामना कर रहा है. केंद्र सरकार से लेकर राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन हर कोई अपनी तरफ से लोगों की मदद करने की कोशिश कर रहा है. इसी को देखते हुए अब सांसद निधि फंड के नियमों में भी बदलाव कर दिया गया है. अब सांसद और विधायक अपने फंड का हिस्सा कोरोना के खिलाफ लड़ाई में उपयोग कर सकेंगे.

कांग्रेस के राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने बुधवार सुबह ट्वीट किया कि केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का शुक्रिया, सांसद निधि फंड के तहत अब सभी सांसद कोरोना के खिलाफ लड़ाई में राशि दे सकेंगे. इस लड़ाई को लड़ना हर किसी की जिम्मेदारी है.

Thanks GOI & PM for responding to our request to relax MPLAD rules permitting MPs to use public funds in the war against Corona. This battle is everyone’s responsibility. ⁦@PMOIndia⁩ ⁦@WHOpic.twitter.com/cNdaEz9VgI

— Vivek Tankha (@VTankha) March 24, 2020

इसी के बाद उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और मौजूदा लोकसभा सांसद अखिलेश यादव ने भी अपनी सांसद निधि से मदद का ऐलान किया.

अखिलेश ने ट्वीट कर कहा कि अपनी सांसद निधि से 1 करोड़ की राशि आज़मगढ़ मेडिकल कॉलेज के समस्त चिकित्सकों-स्वास्थ्यकर्मियों के ‘पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विप्मेंट’ व कोरोना-जांच की ‘टेस्टिंग किट’ हेतु देते हुए मैं समस्त जनता से इस कठिन समय में सहयोग की अपील करता हूं.

अपनी सांसद निधि से 1 करोड़ की राशि आज़मगढ़ मेडिकल कॉलेज के समस्त चिकित्सकों-स्वास्थ्यकर्मियों के ‘पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विप्मेंट’ व कोरोना-जाँच की ‘टेस्टिंग किट’ हेतु देते हुए मैं समस्त जनता से इस कठिन समय में सहयोग की अपील करता हूँ.

— Akhilesh Yadav (@yadavakhilesh) March 25, 2020

गौरतलब है कि सांसद और विधायकों को एक निश्चित राशि मुहैया की जाती है, जिसके तहत वो अपने क्षेत्रों में विकासकार्यों को करवा सकते हैं. लेकिन अब जब इस तरह की महामारी सामने आई है और सभी लोग अपने घरों में कैद हो गए हैं, तो सांसदों ने आगे बढ़कर ये फैसला लिया है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें
आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में केंद्र सरकार की ओर से 15 हजार करोड़ रुपये की राशि का ऐलान किया था. इस राशि का ऐलान कोरोना महामारी से निपटने के लिए स्वास्थ्य सेवाओं के लिए किया गया है, ताकि किसी तरह की कमी ना आ सके.