केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी पर पलटवार किया है. बाबुल सुप्रियो ने कहा है कि असदुद्दीन ओवैसी दूसरे जाकिर नाइक बन रहे हैं.

यदि वह आवश्यकता से अधिक बोलते हैं तो हमारे देश में कानून-व्यवस्था है. असल में, ओवैसी ने शनिवार को कहा था कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार सिर्फ बड़े कारोबारियों को लाभ पहुंचाने का काम करती है. साथ ही वो विभाजनकारी मुद्दों पर बात करती है.

इससे पहले अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट फैसले को लेकर शुक्रवार को ट्वीट किया था और कहा कि 'मुझे अपनी मस्जिद वापस चाहिए.'

Union Minister Babul Supriyo in West Bengal: Asaduddin Owaisi is becoming second Zakir Naik. If he speaks more than required, then we do have law and order in our country. pic.twitter.com/X7JgOkCVxb

— ANI (@ANI) November 16, 2019

9 नवंबर को फैसले वाले दिन ओवैसी ने कहा था कि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की तरह हम भी फैसले से सहमत नहीं हैं, सुप्रीम कोर्ट से भी चूक हो सकती है. कोर्ट ने अपने फैसले से जिन्होंने बाबरी मस्जिद को गिराया, उन्हें ट्रस्ट बनाकर राम मंदिर बनाने का काम दे दिया.

बाबुल सुप्रियो से पहले उन्नाव के सांसद साक्षी महाराज ने शनिवार को कहा कि ओवैसी को गद्दारी की बातें नहीं करना चाहिए जो अयोध्या मामले पर निर्णय आने से पहले कहते थे कि सुप्रीम कोर्ट का आदेश मानेंगे.

साक्षी महाराज कहा कि कानून को कोई अपने हाथ में नहीं ले सकता और अगर किसी ने भी हिंदुस्तान में कानून अपने हाथ में लेने का काम किया तो फिर कानून अपना काम करेगा. कोई भी टीका टिप्पणी करना यह माननीय सुप्रीम कोर्ट अपमान है.

ओवैसी द्वारा 5 एकड़ जमीन दिए जाने को खैरात बताने पर साक्षी महाराज ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का आदेश है और माननीय सुप्रीम कोर्ट ने जो आदेश दिया है उस आदेश में किसी को हस्तक्षेप करने का, टीका टिप्पणी करने का, खैरात जैसे शब्दों का प्रयोग नहीं करना चाहिए.