भोपाल : मध्यप्रदेश के सरकारी स्कूलों में अब छात्राओं को ब्यूटी एंड वेलनेस के बारे में पढ़ाया जाएगा। जी हां, स्कूल शिक्षा विभाग वर्ष 2020-21 के नए सत्र में कक्षा 9वीं और 10वीं में चार नए वोकेशनल कोर्स जोड़ रही है जिनमें से एक ब्यूटी एंड वेलनेस कोर्स भी है। इसके अंतर्गत छात्राओं को सौंदर्य निखारने और मेंटेंन रहने के गुर सिखाए जाएंगे।

ये कोर्स सिर्फ छात्राओं के लिये हैं और सरकारी कन्या विद्यालयों में ही लागू होंगे। यहां लड़कियों को स्वरोज़गार की तरफ आकर्षित करने और उनके हुनर को निखारने के लिये ब्यूटी एंड वेलनेस के गुर सिखाए जाएंगे। इस कोर्स को  पंडित सुंदरलाल शर्मा व्यावसायिक संस्थान द्वारा तैयार किया गया है। फिलहाल 9वीं से 12वीं तक के वोकेशनल कोर्स में सम्मिलित किया जाएगा। ब्यूटी एंड वेलनेस के अलावा भी कुछ अन्य कोर्स नए सत्र से प्रारंभ किये जा रहे हैं जिनमें कौशल विकास पर आधारित दो साल का पाठ्यक्रम है जो 9वीं से लागू किया जाएगा। खास बात ये है कि इन पाठ्यक्रमों के लिये परीक्षा होगी और इसका सर्टिफिकेट भी दिया जाएगा।

आपको बता दें कि प्रदेश के युवाओं को स्वरोजगार की ओर मोड़ने और बेरोज़गारी दूर करने के लिए कांग्रेस सरकार शुरू से ही कुछ गैर-पारंपरिक कोर्स व प्रशिक्षणों को लेकर चर्चाओं में रही है। शुरू में सरकार ने युवाओं को पशु चराने और बैंड-बाजे का प्रशिक्षण देने का फैसला लिया था। हालांकि इसे लेकर सरकार की खूब किरकिरी भी हुई थी। उसके बाद बेरोजगारों को खेती की ओर उन्मुख करने के लिये सरकारी जमीन देने का फैसला किया गया जिसपर वे उद्यानिकी फसलें उगा सकेंगे। अब शासकीय विद्यालयों में ब्यूटी एंड वेलनेस का कोर्स शुरू किया जा रहा है और इस संबंध में लोक शिक्षण संचालनालय (डीपीआई) ने निर्देश भी जारी कर दिए हैं। पायलट प्रोजेक्ट के तहत नए सत्र में इसे दो वर्षीय जॉबरोल योजना के अंतर्गत सभी सरकारी स्कूलों में भी लागू किया जाएगा।