कोलकाता : पश्चिम बंगाल में चक्रवाती तूफान अम्फान की वजह से भीषण तबाही मची है. यहां पिछले 283 साल में आया ये सबसे भयावह तूफान है. इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को अम्फान प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया. सर्वे करने के बाद पीएम मोदी ने पश्चिम बंगाल के लिए 1000 करोड़ रुपये की शुरुआती मदद का ऐलान किया है, इसके अलावा जल्द ही केंद्र की एक टीम राज्य में आकर विस्तार से सर्वे करेगी.

हवाई सर्वे के बाद पीएम मोदी ने कहा कि जब देश में कोरोना वायरस का संकट है, तब पूर्वी क्षेत्र में तूफान ने प्रभावित किया. पीएम मोदी ने कहा कि राज्य और केंद्र सरकार दोनों ने इस तूफान को लेकर तैयारी की थी, लेकिन इसके बावजूद 80 लोगों की जान हम नहीं बचा पाए हैं. इस तूफान की वजह से काफी संपत्ति का नुकसान हुआ है, जिसमें घर उजड़े हैं और इन्फ्रास्ट्रक्चर को बड़ा नुकसान हुआ है.

Speaking on the situation in the wake of Cyclone Amphan. https://t.co/asWXOfFwff

— Narendra Modi (@narendramodi) May 22, 2020

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुरुआती तौर पर 1000 करोड़ रुपये की आर्थिक मदद का ऐलान किया है, इसके अलावा मृतकों के परिजनों के लिए मुआवजे का ऐलान किया गया है. पीएम मोदी ने मृतकों के परिजनों को 2 लाख रुपये का मुआवजा देने का ऐलान किया है. इसके अलावा घायलों को 50 हजार रुपये की मदद की जाएगी.

बता दें कि शुक्रवार सुबह तक पश्चिम बंगाल में अम्फान तूफान के कारण 80 लोगों की मौत हो गई है. राज्य को करीब एक लाख करोड़ रुपये के नुकसान का अनुमान है.

कोरोना वायरस संकट के बीच पीएम मोदी 83 दिनों के बाद पहली बार दिल्ली से बाहर किसी दौरे पर हैं. गौरतलब है कि देश में कोरोना संक्रमण के फैलने की रफ्तार पर ब्रेक लगाने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन 25 मार्च को लागू किया गया था.

अम्फान तूफान ने ओडिशा में भी नुकसान पहुंचाया है. हालांकि बंगाल के मुकाबले वहां नुकसान कम हुआ है. प्रधानमंत्री कार्यालय के ट्वीट के मुताबिक पीएम मोदी ओडिशा में हुए नुकसान का भी हवाई सर्वेक्षण करेंगे.

ममता बनर्जी ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से राज्य का दौरा करने की मांग की थी. ममता बनर्जी ने कहा था कि राज्य में हालात ठीक नहीं हैं. मैं पीएम मोदी से मांग करती हूं कि वो यहां का दौरा करें. मैं भी हवाई सर्वेक्षण करूंगी. लेकिन मैं हालात ठीक होने का इंतजार कर रही हूं.