एल्युमिनियम फॉयल के नुकसान : खाना पैक करने के लिए आजकल हर कोई एल्युमीनियम फॉयल का ही इस्तेमाल करता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह आपकी सेहत के लिए कितना खतरनाक है। जी हां, हाल ही में हुए एक शोध के अनुसार, एल्युमिनियम फॉयल में पैक्ड चीजें खाने से दिल के रोगों और अल्जाइमर जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ जा रहा है। चलिए आपको बताते हैं फॉयल पेपर के नुकसान।

किडनी फेल का खतरा
एल्युमिनियम फॉयलल में गर्म खाना पैक करने से इसमें मौजूद तत्व पिघल कर खाने के जरिए शरीर में चले जाते है। जिससे आपके लिवर और किडनी फेलियर के चांसेस बढ़ जाते है।

दिमागी बीमारियां
इसमें पैक खाना या फास्ट फूड खाने से आप अल्जाइमर और डिमनेशियां जैसी बीमारियों का शिकार हो सकते है। कई स्टडी में भी बताया जा चुका है कि हाई एल्युमिनिय इनटेक अल्जाइमर की वजह बन सकता है। रोजाना एल्युमिनियम फॉयल के इस्तेमाल से ब्रेन सेल्स की ग्रोथ रेट घटती है।

सांस लेने में तकलीफ
रोजाना इसमें पैक खाना खाने से वो त्तव आपके शरीर में जाकर इक्ट्ठा हो जाते है, जिससे आपको अस्थमा या सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्याएं होने लगती है। इसके अलावा इससे आपका इम्यून सिस्टम भी खराब हो जाता है।

हड्डियों को नुकसान
एल्युमिनियम फॉयल में कुकिंग से आपकी हड्डियां कमजोर हो सकती हैं। इसमें मौजूद खतरनाक रसायनों के कारण हड्डियां कमजोर होने लगती है। इतना ही नहीं, इससे सेंट्रल नर्वस सिस्टम तक डैमेज हो सकता है।

कैंसर का खतरा
अगर आप अपने बच्चों के लिए खाना एल्युमिनियम फॉयल में पैक करके देती हैं, तो सावधान हो जाए और ऐसा ना करें। इससे एल्युमिनियम फॉयल के तत्व खाने में रह जाते हैं जिससे कैंसर होने का खतरा बना रहता है।

इस्तेमाल करने का सही तरीका
फॉयल पेपर में बहुत गर्म खाना रैप नहीं करें। ऐसे में एल्युमिनियम पिघलकर खाने में मिल जाता है, इसलिए हमेशा अच्छी क्वालिटी के फॉयल पेपर का इस्तेमाल करें।
हमेशा एसिटिक चीजों को फॉयल पेपर में रखने से बचें, क्योंकि इससे चीजें जल्दी खराब हो सकती हैं और खाने का केमिकल बैलेंस भी बिगड़ जाता है।
एल्युमिनियम फॉयल में मसालेदार और खट्टे फलों को पैक करने से बचें।
माइक्रोवेव या अवन में खाना बनाते समय भी आप एल्युमिनियम फॉयल का इस्तेमाल ना करें।