नई दिल्ली : गणतंत्र दिवस के अवसर पर पूरा देश अलर्ट पर है. खासतौर पर अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर बीएसएफ ने 'ऑपरेशन सर्द हवा' शुरू किया है.

इसके लिए जम्मू-कश्मीर, पंजाब, राजस्थान और गुजरात के बॉर्डर पर 15 दिन का अलर्ट जारी किया गया है. किसी भी तरीके के आतंकी हमले से निपटने के लिए बीएसएफ ने बॉर्डर पर ट्रूप्स की संख्या बढ़ा दी है.

खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक, इस 26 जनवरी पर पाकिस्तान बॉर्डर पर 6 तरीके से आतंकी हमला कर सकता है.

पहला- आतंकी लॉन्च पैड से मसरूर बड़ा भाई के जरिए पाकिस्तान अफगानी और तालिबानी आतंकियों की घुसपैठ करा सकता है. इन आतंकियों की मदद पाकिस्तान रेंजर्स कर रहे हैं.

दूसरा- पाकिस्तान ड्रोन के जरिए हथियार भी भेज सकता है. बीएसफ सूत्र बताते हैं कि आतंकी कमांडर पाक आर्मी और ISI की मदद से प्री प्रोग्राम्ड ड्रोन का इस्तेमाल हथियार भेजने के लिए कर सकते हैं.

तीसरा- सूत्र बताते हैं कि पंजाब और राजस्थान में स्मगलरों के जरिये खालिस्तान समर्थकों को 26 जनवरी के अवसर पर खलल डालने के लिए हथियार पहुंचा सकते हैं.

चौथा- वहीं इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट (ICP), अटारी बॉर्डर, हुसैनीवाला बॉर्डर और करतारपुर कॉरिडोर पर अलर्ट जारी कर दिया गया है. बीएसफ ने इन जगहों पर अतिरिक्त सुरक्षा बढ़ा दी है. शक है कि आतंकी 26 जनवरी के जश्न में खलल डाल सकते हैं.

पांचवां- बीएसएफ ने जम्मू के 13 छोटे नाले और 3 बड़ी नदियों में भी अलर्ट बढ़ा दिया है. बीएसएफ ने सिर्फ जम्मू ही नहीं पंजाब की नदियों वाले इलाके में भी अलर्ट जारी कर दिया है. इन क्षेत्रों में इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस भी बढ़ा दिया गया है.

छठा- गुजरात के हरामी नाले के इलाके से लश्कर के आतंकी घुसपैठ कर सकते है. इसके चलते बीएसएफ ने फास्ट अटैक  क्राफ्ट और ऑल टेरेन व्हीकल की गस्ती बढ़ा दी है. साथ ही ट्रूप्स की संख्या भी बढ़ा दी गई है.