कोटा: जिले में JVVNL (Jaipur Vidyut Vitran Nigam Limited) वर्सेस बीएसएनएल (Bharat Sanchar Nigam Limited) सरकार की दो संस्थाएं आमने-सामने हैं. वजह JVVNL पर बीएसएनएल का करोड़ों रुपया बकाया है.

बीएसएनएल JVVNL से राहत की उम्मीद लगाए हुए है लेकिन JVVNL बिना भुगतान मानने को तैयार नहीं है. ऐसे में JVVNL बीएसएनएल के कोटा संभाग 259 कनेक्शन में से एक-एक कर सभी कनेक्शन काटना शुरू कर दिया है. ऐसे ही हालात रहे तो कोटा संभाग में बीएसएनएल की सेवा ठप हो जाएगी.

बीएसएनएल के ग्रामीण क्षेत्रों में चल रहे मोबाइल टावर और ऑफिसेस का बिजली का बिल जमा नहीं होने के कारण बिजली विभाग ने उनके कनेक्शन काटना शुरू कर दिया है. बीएसएनएल के जीएम संजीव सिंघल का कहना है कि दिल्ली मुख्यालय से फंड नहीं आया, इसलिए बिल जमा नहीं हुआ.

भारत सरकार द्वारा बीएसएनएल के रिवाइवल के लिए 4 जी स्पेक्ट्रम दिया जा रहा है, जिससे स्थिति में सुधार आएगा. बीएसएनएल बंद हो रहा है, ये केवल भ्रामक प्रचार है. बिजली कनेक्शन काटने की समस्या से मंत्री रविशंकर प्रसाद तथा टेलीकॉम सेक्रेटरी अंशु प्रकाश को भी अवगत करवाया जा चुका है. उन्होंने राजस्थान सरकार के प्रमुख सचिव को पत्र लिखा है कि बीएसएनएल सभी बकाया जल्दी ही चुका देगा, इसलिए कनेक्शन नहीं काटे जाएं.

वहीं बिजली विभाग के चीफ इंजीनियर क्षेमराज मीणा का कहना है कि 3.45 करोड़ रुपएये का भुगतान बकाया है. पिछले 6 माह से मोहलत दे रहे हैं, इसलिए अब ये कार्रवाई करनी पड़ रही है. बीएसएनएल फिलहाल जेवीवीएनएल के समक्ष कनेक्शन न काटने की गुहार लगाते हुए कुछ वक़्त की मोहलत चाहता है, वहीं वित्तीय संकट से जूझ रहे जेवीवीएनएल ने भी वक़्त देने से मनाही कर दी है. ऐसे में कनेक्शन कटने से अब बीएसएनएल पर कोटा संभाग में बंद होने का ख़तरा मंडराने लगा है.