किसानों को मोदी सरकार की ओर से बड़ा तोहफा दिया गया है। वास्तव में किसान सम्मान निधि योजना के तहत लाभार्थी किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड देने का ऐलान हुआ था। अब ऐसे 14 करोड़ किसानों को 1.60 लाख रुपए का लोन बिना किसी गारंटी के दिया जाएगा। अगर किसान को इससे ज्यादा रुपयों की लोन की जरुरत होगी तो बांड भरना होगा।
लोन पर देना होगा सिर्फ 4 फीसदी ब्याज
किसानों को क्रेडिट कार्ड देने का 15 दिनों का अभियान 10 फरवरी से शुरू हो चुका है। इस कार्ड के माध्यम से किसानों को सफल के लिए 3 लाख रुपए का कर्ज मिलता है। जिसे चुकाने के लिए किसानों को 7 फीसदी का ब्याज देना होता है। अगर कर्ज समय दिया जाता है तो ब्याज दर में 3 फीसदी की छूट दी जाती है यानी पूरे कर्ज पर तीन फीसदी का ब्याज की ही देना होता है। इसके लिए देश के सभी केंद्र शासित और पूर्ण राज्यों की सरकारों और नाबार्ड को निर्देश दिए जा चुके हैं। निर्देशों के तहत ऐसी लिस्ट तैयार करने को कहा गया है कि जिनके पास किसान क्रेडिट कार्ड नहीं है।
वहीं दूसरी ओर जिन किसानों के पास किसान क्रेडिट कार्ड पहले से ही मौजूद हैं वो लोग 15 दिनों में अपने कार्ड की लिमिट को बढ़वा सकते हैं। वहीं जिन लोगों के क्रेडिट कार्ड डिएक्टिव हो चुके हैं वो अपने बैंक ब्रांच में जाकर एक्टिवेट करा सकते हैं। इसके अलावा जिन किसानों के पास किसान क्रेडिट कार्ड नहीं है वो लोग अपनी जमीन जुड़ी डिटेल और फसल के ब्यौरे के साथ ब्रांच में कार्ड बनवा सकते हैं।