रायपुर: पूरी दुनिया में तेजी से बढ़ रहे कोरोना वाइरस को देखते हुए प्रदेश सरकार भी सतर्क है. छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने एडवाइजरी जारी की है. साथ ही लोगों को संयम बरतने की हिदायत दी है. उन्होंने कहा कि एक मरीज के बुधवार रात को पॉजिटिव होने की जानकारी आई थी और उनके परिवार को भी एतिहाद के तौर पर ऐम्स बुलाकर जांच उनकी की गई है. गुरुवार सुबह जानकारी मिली कि एक बच्ची जो लंदन से 15 तारीख को आई थी. उसकी उम्र 24 साल के आस-पास है, कोरोना से पॉजिटिव पायी गई है. उनके परिवार पर फिलहाल लक्षण नहीं दिखे जिस कारण उन्हें घर भेज दिया गया है. लेकिन यह सुनिश्चित किया गया है कि वे खुद सुरक्षित रखेंगे और दूसरों को भी इस महामारी से बचाएंगे.

एक केस पॉजिटिव आने पर शासन की क्या रणनीति रहेगी?
इस सवाल के जवाब में स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि ऐसे केसेस को अस्पताल में रखने की व्यवस्था बनाई गई है. राष्ट्रीय आंकड़ों की तुलना में भी देखे कि 152 देश इसमें आप्रभावित माने जा रहे हैं. छत्तीसगढ़ के अलग-अलग जिलो में 400 बेड की व्यवस्था की गई है. चिंता केवल इस बात की है कि एक सीमा के आगे इसमें व्यवस्था नहीं दी जा सकती. अगर संख्या बहुत बढ़ गई तो इनकी संख्या बढ़ाई जा सकती है. कुछ बीमारियां बहुत तेजी से इसलिए बढ़ जाती हैं क्योंकि लोग गंभीरता से नहीं लेते हैं. घूमना-फिरना और मिलना-जुलना कम नहीं करते. अगर किसी को क्वारंटाइन किया जा रहा है तो उसे मानना चाहिए. अमेरिका की रिपोर्ट की माने तो इस माहामारी से मरने वाली की संख्या 3 से 4 फीसदी है. लेकिन प्रभावित होने वालों की संख्या 20 से 60 फीसदी है.

यात्रियों को स्क्रीनिंग को लेकर सपोर्ट करना चाहिए
टीएस सिंहदेव ने कहा कि जो नागरिक विदेशों से आ रहे हैं उन्हें स्क्रीनिंग प्रोसेस से गुजरना चाहिए. इसके लिए उसके परिजनों को सरकार का सपोर्ट करना चाहिए. विदेश से आने वाले नागरिकों को सबसे पहले अस्पताल या फिर कैम्प में ले जाकर टेस्ट करना चाहिए. यही इस महामारी से बचने का सबसे बढ़िया तरीका है. सबसे बड़ी जवाबदारी यही है कि अगर किसी तरह के लक्षण दिखने पर सबसे टेस्टिंग सेंटर में जाएं और अगर नेगेटिव भी आता है पूरी ऐहतिहातन सावधानी बरतनी होगी.