रायपुर : देशभर में कोल ब्लॉक आवंटन के लिए नीलामी की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है. इस प्रक्रिया को लेकर ही छत्तीसगढ़ में किचकिच शुरू हो गई है. जहां एक तरफ कांग्रेस और कुछ समाजिक संगठन केंद्र सरकार के फैसले का विरोध कर रहे हैं. वहीं बचाव में उतरी बीजेपी कांग्रेस पर ही बरस रही है.

दरअसल छत्तीसगढ़ में 9 कोल ब्लॉक आवंटित होने हैं. 9 में से 5 कोल ब्लॉक हसदेव अरण्य क्षेत्र में आता है जहां हाथियों का और अन्य वन्य जीवों का सबसे ज्यादा मूवमेंट है, ऐसे में यहां कोल आवंटन का विरोध शुरू हो गया है.

कांग्रेस और छत्तीसगढ़ बचाव आन्दोलन सहित कुछ अन्य सामाजिक संगठनों का कहना है कि सरकार का ये फैसला गलत है, इससे हाथियों को नुकसान पहुंचेगा. वहीं बीजेपी केंद्र का बचाव करते हुए इससे मिलने वाले राजस्व की बात कर रही है. पार्टी का कहना है कि जब से बघेल सरकार आई है, तब से आर्थिक नुकसान बढ़ा है.  

आपको बता दें कि प्रदेश में करीब 2 हफ्ते में 6 हाथियों की मौत हो चुकी है. जिसे लेकर वन्य प्रेमियों में काफी रोष है. वहीं अब हाथी प्रभावित इलाके में कोल ब्लॉक की नीलामी और खनन को लेकर छत्तीसगढ़ बचाओ आन्दोलनकारियों का गुस्सा बढ़ गया है.