करीब 24 घंटे से भी ज्यादा समय से उत्तर प्रदेश में प्रवासी मजदूरों को लाने के लिए खड़ी बसों को लेकर जो विवाद चल रहा है उसमें अब मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की एंट्री हो गई है. शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर प्रियंका से मध्य प्रदेश मॉडल देखने की नसीहत दी है.

मंगलवार देर शाम मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक के बाद एक कई ट्वीट कर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को प्रवासी मजदूरों को लाने के लिए मध्य प्रदेश मॉडल देखने और सीखने की सलाह दी है.

देर शाम ट्वीट करते हुए सीएम शिवराज ने लिखा 'प्रियंका जी, अगर आपको सच में श्रमिकों की मदद करनी है, तो मध्य प्रदेश आइए. हमारे यहां की व्यवस्थाएं देखिए, सीखिए; उससे आपको मदद मिलेगी. मध्य प्रदेश की धरती पर आपको कोई मजदूर भूखा, प्यासा और पैदल चलता हुआ नहीं मिलेगा. हमने कारगर इंतजाम किए हैं'.

 

प्रियंका जी, अगर आपको सच में श्रमिकों की मदद करनी है, तो मध्यप्रदेश आइये। हमारे यहॉं की व्यवस्थाऍं देखिये, सीखिए; उससे आपको मदद मिलेगी। मध्यप्रदेश की धरती पर आपको कोई मजदूर भूखा, प्यासा और पैदल चलता हुआ नहीं मिलेगा। हमने कारगर इंतजाम किये हैं। pic.twitter.com/4MDrl4UDlv

— Shivraj Singh Chouhan (@ChouhanShivraj) May 19, 2020

 

इसके आगे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लिखा कि अपने और दूसरे राज्यों के श्रमिक भाइयों को उनके घरों एवं राज्यों तक पहुंचवाने के लिए हम एक हजार से अधिक बसें रोज चलवा रहे हैं. देश के दूसरे राज्यों में फंसे अपने 4.5 लाख मजदूर भाई-बहनों को अब तक ट्रेनों और बसों से हम उन्हें उनके घर पहुंचवा चुके हैं.'

अपने एक और ट्वीट में शिवराज सिंह चौहान ने प्रियंका गांधी पर मजदूरों के नाम पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए लिखा 'प्रियंका जी, संकट की इस घड़ी में अपनी निकृष्टतम राजनीति के लिए मजदूरों को मोहरा मत बनाइए. उनकी हाय लगेगी. उनके साथ-साथ यह देश और दुनिया भी आपकी कथनी और करनी में अंतर को साफ-साफ देख रही है. छल नहीं, सेवा कीजिए, यही सच्ची राजनीति है.'

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का दावा है कि उनकी सरकार अब तक अन्य राज्यों फंसे करीब 4 लाख 42 हजार प्रवासी श्रमिकों की घर वापसी करवाई है. इनमें से करीब 1 लाख 27 हजार श्रमिक ट्रेन के जरिए वापस आए हैं तो वहीं 3 लाख 15 हजार के करीब श्रमिक सड़क मार्ग के जरिए वापस लाए गए हैं.

इसके अलावा सीएम शिवराज ने कहा है कि मध्य प्रदेश सरकार की तरफ से रेलवे को 125 ट्रेनों की मांग भेजी गई थी जिसमें से करीब 100 ट्रेनें अब तक प्रवासी श्रमिकों को लेकर मध्य प्रदेश आ चुकी है.

मुख्यमंत्री का यह भी कहना है कि महाराष्ट्र से मध्य प्रदेश के रास्ते उत्तर प्रदेश, राजस्थान और बिहार जाने वाले प्रवासी मजदूरों को पैदल ना चलना पड़े इसके लिए 1 हजार बसों को ड्यूटी पर लगाया गया है जो श्रमिकों को अन्य राज्यों की सीमाओं तक छोड़ रही हैं.