जबलपुर : जबलपुर में रेत माफियाओं के खिलाफ प्रशासन ने मोर्चा खोल दिया है। एक दिन पहले ही जबलपुर के कलेक्टर भरत यादव ने अकेले ही पनागर के किनारे बसे घाटों पर पहुंचकर छापामार शैली में कार्रवाई करते हुए सबको चौंका दिया। वहीं अब गोरखपुर के एसडीएम आशीष पांडे भी उसी तर्ज पर अकेले ही ललपुर के नर्मदा घाट पर खनन माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए जा पहुंचे। ललपुर के नर्मदा घाट पर बिना किसी लाव लश्कर के करके आशीष पांडे सुबह से ही पहुंच चुके थे। आशीष पांडे नर्मदा घाट पर बिना किसी सरकारी गाड़ी के पहुंचे थे।

ललपुर के नर्मदा घाट पर आशीष पांडे ने देखा कि यहां पर भी रेत नर्मदा से निकाली जा रही है। आशीष पांडे ने देखा कि यहां पर नर्मदा से लेकर जो जाने का रास्ता था वह सिर्फ इसलिए बनाया गया था कि रेत से भरे डंपर और गाड़ियां आसानी से निकल जाएं। आशीष पांडे ने इन रास्तों को बंद करवाया। वहीं आसपास रेत का भंडार इतना नहीं मिला, लेकिन यह तय था कि यहां से लगातार रेत निकाली जा रही है। आशीष पांडे ने बताया कि ललपुर के घाट से लगातार रेत निकालने की सूचना प्राप्त हुई थी। मैं शनिवार को अकेले ही इसकी तस्दीक करने के लिए यहां पर जा पहुंचा, लेकिन शायद इनका नेटवर्क बेहद मजबूत था या इनके आसपास गुर्गे लगे थे जिन्होंने इनको मेरे आने की सूचना दे दी थी। अब हम सतर्क हैं और इनके ठिकानों पर और रेत खनन पर पूरी तरह से शिकंजा कस देंगे

ललपुर के नर्मदा तट से लगे अनेक गांव में एसडीएम के छापा मारने की सूचना आग की तरह फैल गई और यहां हड़कंप मच गया और यह खबर रेत माफियाओं तक भी पहुंच गई, लेकिन यहां पर सवाल यह उठता है कि इतने बेखौफ तरीके से जब एसडीएम कार्यवाही करने के लिए पहुंच जाते हैं तो खनिज विभाग के अफसर हैं। वे आखिर क्या करते हैं जबलपुर में उच्च अधिकारियों की यह कार्रवाई से तो साफ हो गया कि नीचे का अमला उस तरीके से कार्रवाई नहीं कर रहा है जिस तरीके से उच्च अधिकारी करना चाहते हैं। वहीं जिस प्रकार आईएएस भरत यादव और एसडीएम आशीष पांडे ने अपनी कार्रवाई शुरू की है उससे साफ है कि रेत माफिया खौफ के साए में जरूर आ गया है।

रेत माफियाओं के खिलाफ ताबड़तोड़ कार्रवाई का टास्क कलेक्टर भरत यादव ने सभी अधिकारियों को दिया है। जिसमें आशीष पांडे सब से आगे निकल चुके हैं। वे लगातार घाटों पर पहुंच कर रेत माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई कर रहे हैं। वहीं शनिवार को आशीष पांडे ललपुर घाट के अतिरिक्त अन्य कई घाटों पर रेत माफियाओं पर नकेल कसने के लिए जुटे रहे।