यहां दरख्तों के साए में धूप लगती है, चलो यहां से चलें उम्र भर के लिए। सरकारी मेहकमें किस कदर झूठ बोलते हैं इसकी बानगी अरेरा हिल पे विधायकों के लिए बनने वाले विश्रामग्रह के लिए लगाई गई वृक्षारोपण की झूठी रिपोर्ट उजागर करती है। पर्यावरणविद डॉ. सुदेश वाघमारे के हवाले से भोत जानदार ग्राउंड रिपोर्ट यहां नुमायां हो रही है। स्मार्ट सिटी के 300 करोड़ के कमांड सेंटर की जांच के लिए ईओडब्ल्यू की दबिश वाली खबर ध्यान खींचती है। भोपाल की हवा का एक्यूआई 200 पार पहुंचने वाली स्पेशल रिपोर्ट पीसीबी के रिटायर्ड डायरेक्टर आरके श्रीवास्तव के हवाले से भेतरीन रही। बैंकों की टायमिंग इलाकावार तय होने वाली खबर सभी के काम की है। अब्दुल जब्बार को सुपुर्देखाक करने वाली खबर को ठीक स्पेस मिला। आरजीपीवी के गर्ल्स होस्टल की छात्राओं के खाने में इल्लियां निकलने वाली खबर भी यहां है।