शरीर को फिट रखने के लिए कई तरह के योगासन है लेकिन भुजंगासन एक ऐसा योगासन है जो शरीर के साथ आपकी खूबसूरती का भी पूरा ध्यान रखता है। रोज इस योगासन को करने से शरीर लचीला बनता है। चलिए आपको बताते है यह योगासन करने का तरीका और इसके फायदे।

भुजंगासन करने का तरीका
जमीन पर कपड़ा बिछा कर अपने पेट के बल फ्लैट होकर लेट जाएं। पैरों के तलवे छाती की ओर रखते हुए बाजुओं को धड़ की लंबाई के साथ सीधा रखें। अब हाथों सिर के पास रखें। हाथों पर वजन डालते हुए छाती को धीरे-धीरे ऊपर उठायें। ध्यान रखें की पेट के नीचे का हिस्सा जमीन से नहीं उठना चाहिए। पैरों को उंगलियों के बल टिका कर रखें और पीठ को सुविधा के अनुसार पीछे की ओर मोड़ें। इस पॉजीशन में कम से कम 5 से 6 बार अपनी सांस अंदर बाहर छोड़े और 30 से 60 सेकेंड तक इसी तरह रहें। धीरे-धीरे शरीर में ललीचापन आने पर आप अपना समय बढ़ा भी सकती हैं।

भुजंगासन के फायदे

  • इससे रीढ़ की हड्डी मजबूत होती है।
  • छाती, फेफड़ों , कंधों व पेट में खिंचाव आता है।
  • इससे चेहरे पर ग्लो आता है और  लंबे समय तक इसे करते रहने से बूढ़ापे तक चेहरे पर ग्लो बना रहता है।
  • चेहरे की ढीली त्वचा को टाइट होती है और झुर्रियां भी दूर होती है।
  • कूल्हों में मजबूती आती हैं।
  • तनाव व थकान को दूर करने में मदद करता है।
  • अस्थमा की बीमारी के लिए बहुत ही योगासन है।
  • सावधानियां
  • अगर आपकी पीठ पर चोट लगी है तो आप भुजंगासन न करें।
  • कॉर्पल टनल सिंड्रोम से पीड़ित व्यक्ति यह आसन न करें।
  • जब आपका सिरदर्द हो रहा है तो यह आसन न करें।
  • गर्भवती महिलाओं को यह आसन नहीं करना चाहिए।