नई दिल्‍ली: भारत और चीन के बीच दूसरा अनौपचारिक शिखर सम्‍मेलन चेन्‍नई में आयोजित होने जा रहा है. इस सिलसिले में चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग भारत के दौरे पर आएंगे और चेन्‍नई में पीएम मोदी के साथ मीटिंग करेंगे. इस सिलसिले में विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा, ''प्रधानमंत्री के आमंत्रण पर चीन के राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग दूसरे अनौपचारिक शिखर सम्‍मेलन में हिस्‍सा लेने के लिए चेन्‍नई आएंगे.'' इससे पहले भारत में चीन के दूत सुन वाईडोंग ने कहा, ''हमारे नेताओं के रणनीतिक नेतृत्‍व में हालिया दौर में चीन और भारत के संबंधों में सतत प्रगति हुई है. वुहान अनौपचारिक मीटिंग के सकारात्‍मक प्रभाव को आगे बढ़ाने की दिशा में आगे बढ़ेंगे...''

PM Modi&Chinese Pres had their inaugural Informal Summit in Wuhan,China on 27-28 April'18. Chennai Informal Summit will provide them an opportunity to continue discussions on bilateral, regional, global issues&exchange views on deepening India-China Closer Development Partnership https://t.co/D7mcLlgHkm

— ANI (@ANI) October 9, 2019

सूत्रों के मुताबिक दोनों नेताओं की मुलाकात के दौरान क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा होगी. सीमा पर शांति, सौहार्द बनाए रखने पर चर्चा हो सकती है, भारत-चीन अगले स्पेशल रिप्रेजेंटेटिव मुलाकात (SPM) पर फैसला ले सकते हैं.

सूत्रों के मुताबिक कश्‍मीर से आर्टिकल 370 हटाने के मुद्दे पर कोई चर्चा नहीं होगी क्‍योंकि ये भारत का आंतरिक मामला है. आतंकवाद के मुद्दे पर व्यापक चर्चा होने की उम्‍मीद है फिर चाहे वह क्षेत्रीय आतंकवाद हो या वैश्विक. खासतौर पर आतंकवादियों को ट्रेनिंग, फाइनेंसिंग और समर्थन देने और देने वालों के मुद्दे पर बात होगी. उल्‍लेखनीय है कि पीएम मोदी और शी जिनपिंग के बीच शांति, व्‍यापार, रक्षा और सुरक्षा, द्विपक्षीय मुद्दे, सीबीएम, क्षेत्रीय मुद्दों पर चर्चा होने की संभावना है.