नई दिल्लीः भारतीय बीमा विनियामक व विकास प्राधिकरण (IRDAI) ने तीन बीमा पॉलिसी के नामों के लिए लोगों से सुझाव मांगे हैं। इरडा ने नाम का सुझाव देने में कुछ शर्तें भी लगाई हैं। प्राधिकरण ने कहा कि सुझाए जाने वाले नाम से ही बीमा पॉलिसी की संबंधित कैटेगरी के बारे में पता चल जाना चाहिए। इरडा ने नामों का सुझाव 'स्टैंडर्ड फायर एंड स्पेशल पेरिल्स' सेगमेंट में आवास और छोटे कारोबारों के स्टैंडर्ड प्रोडक्ट्स के लिए मांगे हैं। इरडा ने कहा है कि सही नाम सुझाने वालों को 10-10 हजार रुपए का नकद पुरस्‍कार और प्रशस्ति-पत्र दिया जाएगा।

इरडा ने कहा है कि ऐसे नाम सुझाएं, जिनसे संबंधित प्रोडक्‍ट्स का मकसद पूरी तरह से स्पष्ट हो जाए। संबंधित प्रोडक्‍ट का मकसद आवासीय इकाइयों और छोटे व्यवसायों को बाढ़ जैसी घटनाओं के समय बीमा-सुरक्षा देना है। साथ ही नाम सुझाते समय ध्यान रखा जाए कि वे प्रासंगिक, सरल, आसानी से याद होने वाले और देश भर में इस्तेमाल किए जाने लायक हों। प्रतिभागियों को अपनी एंट्रीज 10 जुलाई तक इरडा को भेज देनी हैं। बता दें कि इरडा ने कोरोना वायरस के इलाज से जुड़े बीमा उत्पाद को 'कोरोना कवच' नाम दिया है।

इरडा ने इस बार जिन तीन इंश्‍योरेंस प्रोडक्‍ट्स के लिए नामों के सुझाव मांगे हैं, उनमें किसी भी राशि तक का आवास बीमा, किसी एक जगह पर वैल्यू एट रिस्क वाली माइक्रो कमर्शियल एंटिटीज के लिए 5 करोड़ रुपए तक का बीमा और वैल्यू एट रिस्क वाली छोटी कमर्शियल एंटिटीज के लिए 50 करोड़ रुपए तक का जोखिम बीमा शामिल है। इस बीच, इरडा ने कोविड-19 से संबंधित साइबर हमले में डाटा की चोरी के बारे में एडवायजरी भी जारी की है। इसमें सभी बीमा कंपनियों और विनियमित संस्थाओं को सलाह दी गई है कि वे अपने कर्मचारियों को सतर्क करें।