जबलपुर : स्मार्ट सिटी जबलपुर में सफाई व्यवस्था बिल्कुल चौपट है। वहीं सफाई व्यवस्था को दुरूस्त रखने के लिए ना जनता जागरूक ना ही निगम के अफसर सतर्क हैं। हर बार स्वच्छता सर्वेक्षण में जबलपुर पीछे ही रह जाता है। अब जबलपुर की सफाई व्यवस्था को ठीक करने कलेक्टर भरत यादव खुद अपने अफसरों के साथ सड़कों पर निकल चुके हैं। गली, मुहल्ले पहुंच रहे हैं। साथ ही अलग- अलग जगह आईएएस, और अन्य अफसरों की टीम भी सुबह से निकल पड़ती है। भरत यादव ने सुबह ही ओमती, भरतीपुर, गुरन्दी, गलगला, खटीक मोहल्ला,सर्राफा, कमानिया और बड़ा फुहारा क्षेत्र का भ्रमण कर साफ-सफाई व्यवस्था का निरीक्षण किया।

विक्टोरिया हॉस्पिटल के पीछे सार्वजनिक शौचालय के पास गंदगी देख मौके से ही नगर निगम के सम्भागीय अधिकारी को फटकार लगाई। उन्होंने कचरे से नालियों के चोक होने पर भी नाराजगी जताई। आगे बढ़े तो व्यापारियों और शहरवासियों से दुकानों और घरों से निकलने वाला कचरा डस्टबिन में डालने का ही आग्रह किया। उन्होंने कहा कि स्वच्छता सबकी जिम्मेदारी है और शहर को साफ-सुथरा रखने के काम मे नागरिकों को भी सहभागिता निभानी चाहिए। भरत यादव ने बड़ा फुहारा को व्यवस्थित बनाने के भी निर्देश दिए। कलेक्टर ने बताया की ये अभियान निरंतर जारी रहेगा।

वहीं जबलपुर के कलेक्टर भरत यादव ने कहा कि कहीं अफसरों को समझाना। अब देखना है कलेक्टर के एक्शन प्लान पर निगम का अमला कितना सतर्क नजर आता है, लेकिन ये तय है कि सुधार न हुआ तो कई लोगों पर गाज गिरना तय है।