भोपाल : नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने सीएम कमलनाथ को सलाह दी है। भार्गव ने कहा है कि कमलनाथ जी को अपने विधायको की रोज गणना करते रहना चाहिए । पिछली बार जिन दो विधायको को बरगला कर ले गए थे वो वापस आ गए है।कमलनाथ अपने विधायक बचाये ,ऐसा न हो कि उन्हें समाचार पत्रों से पता चले कि उनके विधायक यहां आ गए।बीजेपी के सभी विधायक चट्टान की तरह पार्टी के साथ जुड़े हैं। सीएम खुद अपने विधायकों कि दिन रात गिनती करते हैं। भार्गव इतने पर भी नही रुके आगे कहा कि शिक्षकों का तो टेस्ट ले लिया गया और फैल होने वालों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे दी गई।लेकिन सरकार अपने मंत्रियों का भी जरा टेस्ट ले ।पता तो चले कि आखिर उनको कितनी जानकारी है ।

वही उन्होंने किसानों को लेकर सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस में कमलनाथ के नेतृत्व में सरकार चल रही है। सत्ता में आने से पहले राष्ट्रीय अध्यक्ष ने वादा किया था कि सत्ता में आने पर किसानों का कर्ज माफ करेगे। लेकिन साल भर होने को आया है प्रदेश के 25 प्रतिशत किसानों का भी ऋण माफ नही हुआ है।

भागर्व ने आगे कहा कि अब तो किसानों को ऋण खाद बीज भी नही मिल रहा है।सहकारी समितियां दिवालियापन पर आ गई है किसान रो रहा है।मध्य प्रदेश में 150 किसानों ने आत्महत्या की है।अब तक राज्य सरकार ने बाढ़ से पीड़ित किसानों को मुआवजा नही दिया ।बार बार दोषारोपण किया जा रहा है कि केंद्र पैसा नही दे रहा है।जबकि 1 हजार करोड़ का NDRF फंड  दिया जा चुका है, लेकिन सरकार बताये की  इन्होंने किसानों को कितना पैसा दिया है।

भार्गव ने आगे कहा कि कांग्रेस ने हमे सिखाया घर के घेराव करना।अब हम यही कार्य करने विवश है ।सरकार ब्यौरा दे कि किसानों के लिए क्या किया। वचन पत्र में कितने वचन पूरे किए। हर मंत्री के घर मे काम अभी भी  फिजूलखर्ची जारी है। कोरिया भेजा जा रहा दल बार बार।सरकार जबाब दे वार्ना अब हम कांग्रेस के मंत्रियों के घरों का करेगे घेराव और जिन्होंने सरकार को दिया समर्थन हम उनका भी घेराव करेगे ।