मुंबई : महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने मुंबई में तबलीगी जमात के नेताओं के साथ बैठक करके कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सरकार द्वारा जारी निर्देशों का पालन करने की अपील की. दरअसल महाराष्ट्र में तबलीगी जमात के लोगों की वजह से COVID-19 के मरीजों की संख्या और मौत का आंकड़ा काफी बढ़ गया है.

बता दें कि अब तक महाराष्ट्र में तबलीगी जमात से जुड़े 7 लोगों को कोरोना वायरस का पॉजिटिव पाया गया है. इसमें 2 पुणे, 2 पिंपरीचिचवड, 2 अहमदनगर और 1 हिंगोली से मामले सामने आए हैं. जमात के 1,225 में से 1,033 लोगों से संपर्क किया जा चुका है. जिसमें से जमात के 738 लोगों को क्वारंटाईन में रखा गया है. महाराष्ट्र सरकार ने जमात से जुड़े लोगों का आंकड़ा जारी करके जानकारी दी.

इसके अलावा महाराष्ट्र में शनिवार शाम तक कुल 748 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए. यहां COVID-19 से मरने वालों की संख्या 45 तक पहुंच गई है.

मुख्यमंत्री के सी.एम.उद्धव ठाकरे ने शनिवार को जनता को संबोधन में कहा, "जाति, देश, धर्म के अलग होते हुए भी वायरस एक ही है. ऐसे गंभीर हालात में किसी ने महाराष्ट्र की एकता को तोड़ने की कोशिश की, तो इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा."

मुख्यमंत्री ने आगे कहा उद्धव ठाकरे, "अगले नोटिस तक महाराष्ट्र में किसी भी धार्मिक, राजनीतिक, खेल और किसी भी उत्सव की अनुमति नहीं दी जाएगी. राज्य में 5 लाख मजदूरों को सरकार ने भोजन और चिकित्सा सुविधा प्रदान की है."

जबकि महाराष्ट्र के उप-मुख्यमंत्री अजीत पवार ने त्योहारों को मनाने के लिए घर से बाहर ना निकलने के लिए जनता को सख्ती से कहा है. उन्होंने कहा, "कोरोना से मुकाबला करने के लिए जाति, धर्म, भाषा, प्रांतवाद छोड़कर सभी लोग अपना योगदान दें. सोमवार को आने वाली महावीर जयंती, बुधवार को हनुमान जयंती और उसी रात आ रही शब्ब-ए-बारात के दिन नागरिक घर से बाहर ना निकलें."