नई दिल्ली : माइकल पात्रा को आरबीआई का नया डिप्टी गवर्नर नियुक्त किया गया है. उनका कार्यकाल तीन साल के लिए होगा. आपको बता दें कि  RBI के मौजूदा कार्यकारी निदेशक और मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) के सदस्य माइकल पात्रा को यह पद विरल आचार्य के इस्तीफा देने के बाद से खाली पड़ा हुआ था. आचार्य से पहले उर्जित पटेल इस पद पर रहे थे. आपको बता दें डॉ विरल आचार्य ने व्यक्तिगत कारणों से 23 जुलाई के बाद सेवाएं देने में असमर्थता जताते हुए पद से इस्तीफा दे दिया था.

कई अर्थशास्त्रियों के इंडरव्यू के बाद माइकल पात्रा को इस पद पर नियुक्त करने का निर्णय लिया गया है. Deputy governor in-charge of monetary policy आरबीआई का इनसाइडर न होकर सामान्य तौर पर इनडिपेंडेंट इकोनॉमिस्ट होता है.

माइकल ने आईआईटी मुंबई से इकोनॉमिक्स से पीएचडी किया है. अक्टूबर 2005 में मॉनिटरी पॉलिसी डिपार्टमेंट में आने से पहले माइकल पात्रा रिजर्व बैंक में विभिन्न पदों पर काम कर चुके हैं.

इन्होंने सन 1985 में रिजर्व बैंक को ज्वाइन किया था. माइकल पात्रा हार्वर्ड यूनिवर्सिटी (Harvard University) के फेलो रह चुके हैं. इन्होंने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से फाइनेंशियल स्टेबिलिटी (Financial Stability) में में डॉक्टरेट किया है.