भोपाल : एमपी बोर्ड के 10 वीं के छात्रों के लिए राहत भरी खबर है।जनरल प्रमोशन मिलने के बाद जून के पहले सप्ताह में रिजल्ट घोषित होने की उम्मीद है।मंडल के अधिकारियों ने इस ओर संकेत दिए है। चुंकी लॉकडाउन से पहले ली गई परीक्षाओं की कॉपियों का मूल्यांकन काम लगभग पूरा हो चुका है और अब नंबर देने का काम तेजी से चल रहा है।ऐसे में मंडल के अधिकारियों का कहना है कि 10 वीं का रिजल्ट जून के प्रथम सप्ताह में घोषित कर दिया जाएगा।

दरअसल, कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए माध्यमिक शिक्षक मंडल बोर्ड भोपाल द्वारा कक्षा 10वीं के बचे हुए दो पेपर निरस्त कर दिए गए हैं। बीते दिनों मुख्यमंत्री शिवराज ने इसकी घोषणा की है और छात्रों को जनरल प्रमोशल देने का फैसला किया है।इसके लिए दोनों विषय में सभी विद्यार्थियों(students) को पास किया जाएगा। वहीं, लॉकडाउन से पहले ली गई परीक्षाओं की कॉपियों का मूल्यांकन कार्य तेजी से जारी है। इसमें 10वीं का 70 फीसदी हो चुका है, ऐसे में अधिकारियों ने संकेत दिए है कि जून के पहले सप्ताह में रिजल्ट जारी हो सकता है।करीब 28 साल बाद ऐसा माैका आया जब बाेर्ड परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन शिक्षक अपने घर पर कर रहे हैं, इससे पहले भोपाल गैस कांड के दौरान ऐसे हालात बने थे।

नही मिलेगा बेस्ट ऑफ फाइव योजना का लाभ - वही इस साल विद्यार्थियों को बेस्ट ऑफ फाइव योजना का लाभ नहीं मिलेगा। हर साल प्रदेश के करीब 1 लाख विद्यार्थी को बेस्ट ऑफ फाइव के तहत पास किया जाता था, लेकिन इस बार इसका लाभ किसी को नही मिलेगा। दरअसल, मंडल ने 2016-17 की बोर्ड परीक्षा से इस योजना को लागू किया था। इसके तहत 10वीं में छह विषयों में से सिर्फ पांच में ही पास होना अनिवार्य है। यदि विद्यार्थी एक पेपर में फेल हो जाता है तो उसे पास माना जाएगा।लेकिन कोरोना संकट काल के चलते 21 मार्च को सभी परीक्षाएं स्थगित हो गई गईं थी, जिसमें करीब साढ़े 19 लाख विद्यार्थी शामिल होने थे और शासन ने बचे दो पेपरों में सभी को पास करने की घोषणा की है। ऐसे में विद्यार्थियों को बेस्ट ऑफ फाइव योजना का लाभ मिलना संभव नही।खास बात ये है कि अधिकतर विद्यार्थी गणित या विज्ञान विषय में फेल होते थे, जिन्हें बेस्ट ऑफ फाइव के तहत पास किया जाता था, लेकिन इस बार जनरल प्रमोशन मिलने के चलते इसका लाभ मिलना संभव नही।