भोपाल स्टेशन के रैंप वाला वाला हादसा यहां भी भरपूर लीड बना। लोहे की रॉड में जंग लगने और स्लैब कमजोर होने से ये घटना घटी। खबर हर एंगल से जानदार रही। राजगढ़ कलेक्टर के थप्पड़ कांड के बाद सूबे का प्रशासन दो धड़ों में बंटा नजर आता है। शायर बशीर बद्र और उनकी दूसरी बेगम भोपाल की राहत बद्र के इश्क की दास्तान अबरार खान ने भोत जानदार लिखी। रैंप हादसे के घायलों के मुताबिक चढ़ते वक्त पुल हिला था। साथ ही पुल की दरारें छुपाने के लिए दीवारों पे पेंटिंग वाली फोटो भेतरीन रही। हादसे की बड़ी लापरवाही के पाइंट भी यहां हैं। हवा में जहर घोलते वाहनों और बेखबर आरटीओ वाली खबर भोत जानदार रही। औद्योगिक इलाकों में बिजली सप्लाई अब उद्योग विभाग संभालेगा। वैभव श्रीधर की नायाब खबर। एमपी गवर्नमेंट की मआली हालत इत्ती पतली चल्लई है कि इस बार कर्मचारियों को महंगाई भत्ता मिलना मुश्किल है। बीयू में हुए डेढ़ करोड़ के फर्नीचर घोटाले की ईओडब्ल्यू ने प्राथमिकी दर्ज की है।