लखनऊ : राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के अध्यक्ष शरद पवार ने मोदी सरकार से सवाल पूछा है कि अगर राम मंदिर के लिए ट्रस्ट का गठन किया जा सकता है तो मस्जिद के लिए क्यों नहीं? राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के सम्मेलन में उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ पहुंचे शरद पवार ने कहा कि सरकार को अयोध्या में मस्जिद के लिए धन उपलब्ध कराना चाहिए. उन्होंने कहा, ''भाजपा लोगों को सांप्रदायिक आधार पर बांट रही है. अगर सरकार मंदिर के लिए ट्रस्ट बना सकती है तो एक अन्य ट्रस्ट बनाकर मस्जिद के लिए भी धन क्यों नहीं दे सकती?''

NCP Chief Sharad Pawar in Lucknow: Aap jaise Ram Mandir banane ke liye Trust bana sakte hain, masjid banane ke liye Trust kyun nahi bana sakte? Desh to sabka hai, sabhi ke liye hai. pic.twitter.com/kfxloeYP3v

— ANI UP (@ANINewsUP) February 19, 2020

उत्तर प्रदेश में साल 2022 में विधानसभा चुनाव होगा. उससे पहले एनसीपी प्रमुख शरद पवार राज्य में अपनी पार्टी के विस्तार के लिए रणनीति बनाने में जुटे हैं. इसी क्रम में शरद पवार ने लखनऊ में आयोजित राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता सम्मेलन में हिस्सा लिया. शरद पवार ने कहा कि 2022 में होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में एनसीपी अपने प्रत्याशी खड़ा करेगी. शरद पवार ने पूरे उत्तर प्रदेश में एनसीपी को स्थापित करने की बात कही. इस दौरान पार्टी नेता प्रफुल्ल पटेल उनके साथ मौजूद रहे.

योगी सरकार ने हाल ही में वित्त वर्ष 2020-21 के लिए उत्तर प्रदेश का बजट पेश किया है. यूपी सरकार के बजट पर टिप्पणी करते हुए शरद पवार ने कहा कि इसमें किसानों के लिए कुछ नहीं है. एनसीपी अध्यक्ष ने कहा देश का नेतृत्व जिनके हाथों में है उन्होंने किसानों के लिए कुछ भी नहीं किया. जबकि 70 से 80 फीसदी तक कार्यभार कृषि उत्पादन पर आधारित है.

उन्होंने कहा, 'यूपी सरकार ने युवाओं के लिए एक मासिक राशि की घोषणा की है. लेकिन इसमें संदेह है कि उन तक पैसा पहुंच पाएगा या नहीं. समय की मांग युवाओं को काम का अधिकार देने की है.' एनसीपी प्रमुख ने कहा कि यूपी में अवसरों की कमी है, इस वजह से युवा आजीविका की तलाश में मुंबई जैसे शहरों की ओर पलायन कर रहे हैं. शरद पवार ने अपने कार्यकर्ताओं से उत्तर प्रदेश समेत पूरे देश में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के विस्तार का आह्वान किया.