कोरोना के खिलाफ जंग में देश लॉकडाउन के चौथे चरण में प्रवेश कर गया. ये अलग बात है कि कोरोना का संक्रमण फैलने का सिलसिला जारी है. बात करें मध्य प्रदेश की तो सोमवार को सूबे में कोरोना के 259 नये मामले सामने आए. इसके साथ ही प्रदेश में कोविड-19 के मरीजों की कुल संख्या 5236 तक पहुंच गई.

वहीं, बीते 24 घंटों में राज्य में संक्रमण से 4 और लोगों की मौत हो गई. इसके साथ ही कुल मरने वालों की संख्या 250 के पार पहुंच गई. सोमवार को ही सूबे के मुखिया शिवराज सिंह चौहान ने लॉकडाउन के चौथे चरण के लिए नई गाइडलाइंस भी जारी कर दीं.

इसके तहत अब मध्य प्रदेश में सिर्फ 2 जोन ही होंगे, ग्रीन और रेड जोन. नई गाइडलाइंस के अनुसार प्रदेश के भोपाल, उज्जैन, इंदौर, बुराहानपुर, जबलपुर, खंडवा और देवास जिले रेड जोन में हैं, बाकी के सभी जिले ग्रीन जोन में रखे हैं.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को मध्यप्रदेश की जनता, सभी वर्ग, जिलों के क्राइसिस मैनेजमेंट समूहों से मिले सुझावों के मुताबिक लॉकडाउन 4.0 का स्वरूप तय किया गया है. लॉकडाउन 4.0 में सभी कंटेनमेंट इलाकों में विशेष प्रतिबंध जारी रहेंगे और सिर्फ जरूरी गतिविधियों को ही मंजूरी दी गई है. पहले ऐसी गतिविधियों के बारे में जान लीजिए जो रेड और ग्रीन दोनों जोन में संचालित हो सकेंगी.

रेड और ग्रीन यानी दोनों ही जोन में होटल, रेस्टोरेंट, हॉस्पिटेलिटी सेवाएं, कॉलेज, स्कूल, प्रशिक्षण संस्थान, कोचिंग, सिनेमा हॉल, शॉपिंग मॉल, स्वीमिंग पूल, जिम, थियेटर्स, बार, ऑडिटोरियम और मनोरंजन पार्क पर प्रतिबंध लागू रहेगा. इन दोनो ही जोन में किसी भी प्रकार का सामुदायिक कार्यक्रम आयोजन नहीं हो सकेगा. साथ ही सभी प्रकार के मनोरंजन, अकादमिक, सांस्कृतिक, सामाजिक, राजनीतिक, खेलकूद, धार्मिक आयोजन पर प्रतिबंध रहेगा.

सभी पूजा स्थल, सभी धार्मिक स्थल और धार्मिक सभाओं पर प्रतिबंधित जारी रहेगी. शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे तक के लिए सिर्फ जरूरी गतिविधियों को छोड़कर आवागमन पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा. सार्वजनिक परिवहन यानी बसों पर लगा प्रतिबंध करीब 1 हफ्ते तक जारी रहेगा और इसकी समीक्षा के बाद फैसला लिया जाएगा.

इसके साथ ही सूबे की शिवराज सरकार ने रेड जोन वाले जिलों में कुछ गतिविधियों के संचालन की अनुमति दी है.

जानकारी के अनुसार Red जोन में आने वाले मोहल्ले में जरूरी सामान की की दुकानें खुली रहेंगी. साथ ही शिक्षा के लिए ऑनलाइन व्यवस्था जारी रहेगी. परेशान और फंसे हुए लोगों के खाने पीने का इंतजाम के लिए अहम फैसला लिया गया है कि क्वारनटीन सेंटर, पुलिस आवास, मेडिकल के लोगों तक भोजन के लिए होटल, बस डिपो, रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट में संचालित कैंटीन, होम डिलीवरी करने वाले रेस्टोरेंट के किचन चालू रहेंगे. वहीं सभी तरह का माल परिवहन, कार्गो मूवमेंट और उनके खाली वाहनों का मूवमेंट जारी रहेगा.

इसके अलावा सभी स्वास्थ्यकर्मियों और सफाईकर्मियों की आवाजागी और उद्योगों के लिए श्रमिकों की आने जाने के व्यवस्था के लिए बसों की जाएगी. इसके साथ ही शासकीय और निजी दफ्तरों में 50 प्रतिशत कर्मचारी काम कर सकते हैं.

शिवराज सरकार ने सूबे के ग्रीन जोन में जिन गतिविधियों को अनुमति दी है. उनके बारे में भी जान लीजिए. ग्रीन जोन में सभी इलाके के लिए प्रतिबंधित गतिविधियों को छोड़कर बाकी सभी तरह की गतिविधियों का संचालन किया जा सकेगा. इन क्षेत्रों में अन्य किसी तरह की कोई पाबंदी नहीं रहेगी, साथ ही सभी दुकानें और बाजार खोले जा सकेंगे. सब्जी मंडी खुलेंगी और निजी व शासकीय कार्यालय पूरी क्षमता से चलेंगे. इसके साथ ही निजी वाहनों से आवागमन भी किया जा सकेगा.

हालांकि गाइडलाइंस के अनुसार यदि किसी ग्रीन जोन जिले में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ जाएंगे तो वो रेड जोन में बदल दिया जाएगा. साथ ही छूट में भी बदलाव बिल्कुल वैसे ही कर दिया जाएगा. सरकार ने नई गाइडलाइंस में रेड और ग्रीन जोन के लिए आवश्यक सावधानियों का भी जिक्र किया है. हर-एक जोन में वायरस से बचने के लिए 65 साल से अधिक उम्र के लोग, गर्भवती महिलाएं, मल्टीपल डिसआर्डर वाले लोग और 10 साल से कम आयु के बच्चों को घर पर ही रहना होगा.

इसके साथ ही सार्वजनिक जगहों पर थूकने पर जुर्माना लगाया जाएगा. ग्रीन और रेड दोनों जोन के लोगों को सार्वजनिक स्थानों और कार्यस्थल पर मास्क पहनना जरूरी होगा. शादी में अधिकतम 50 लोग और अंतिम संस्कार में अधिकतम 20 लोग ही जा सकेंगे.

इसके अलावा प्रदेश में सार्वजनिक स्थानों पर शराब पीना, पान, तम्बाकू, गुटखा खाना प्रतिबंधित होगा. दुकानों पर ग्राहकों के बीच दो गज की दूरी अनिवार्य होगी. एक वक्त में दुकान पर सिर्फ 5 लोह ही रह सकते है. सभी कार्य स्थलों के एंट्री और एग्जिट गेट पर थर्मल स्क्रीनिंग, हैण्डवाश और सैनेटाईजर का इंतजाम जरूरी है. कार्य स्थल पर नियमित सैनिटाइजेशन के साथ फिजिकल डिस्टेंसिंग जरूरी है.

लॉकडाउन के चौथे चरण के लिए जारी नई गाइडलाइंस के साथ मध्य प्रदेश के लोग अब कोरोना के खिलाफ अपनी जंग जारी रखेंगे. देखना ये है कि इस चरण में मिली छूट के बाद वायरस के बढ़ते संक्रमण पर लगाम लग पाती है या फिर नहीं.