लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कमलेश तिवारी हत्याकांड  पर बड़ा बयान दिया है. सीएम योगी ने कहा कि कमलेश तिवारी की हत्या प्रदेश में दहशत और भय का माहौल फैलाने के लिए की गई. योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कमलेश तिवारी हत्याकांड से जुड़े किसी भी अपराधी को बख्शा नहीं जाएगा. उन्होंने कहा कि हत्याकांड की जांच के लिए एसआईटी को निर्देशित कर दिया गया है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जल्द ही कमलेश तिवारी के परिजनों से मुलाकात करूंगा. सीएम योगी ने आश्वासन दिया है कि हत्याकांड से दहशत का माहौल फैलाने की कोशिश करने वालों को कुचल दिया जाएगा.

#WATCH UP Chief Minister Yogi Adityanath on Kamlesh Tiwari murder case: He was the President of Hindu Samaj Party. The assailants came to his house in Lucknow yesterday, sat&had tea with him, and later killed him after sending all security guards out to buy something from market. pic.twitter.com/kkbFnms17T

— ANI UP (@ANINewsUP) October 19, 2019

सीएम योगी ने कहा कि मामले में लोगों को गिरफ्तार किया गया है. उन्होंने कहा कि यूपी से दो लोगों और गुजरात से तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है. हत्याकांड से जुड़े अन्य लोगों की तलाश की जा रही है. उन्होंने कहा कि प्रशासन को मामले में उचित कार्वारवाई के निर्देश दिए जा चुके हैं. उन्होंने कहा कि दहशत का माहौल फैलाने के लिए शरारत की गई है. ऐसे शरारती तत्व, जो माहौल खराब करने का मंसूबे रखते हैं ऐसे मंसूबों को कुचल दिया जाएगा.

सीएम योगी ने कहा कि हत्यारे कमलेश तिवारी के घर पहुंचे और उनके साथ बातचीत की. कमलेश तिवारी के साथ चाय पी. कुछ देर में उनके बेटे और सुरक्षागार्ड को कुछ सामान लाने बाजार भेजा. इसके बाद कमरे में जब वे अकेले हो गए तो उनकी हत्या कर दी गई.

सीएम योगी ने कहा कि, "इस मामले में प्रभावी कार्रवाई करने के आदेश दे दिए गए हैं. शनिवार शाम को मैं इस मामले की फिर से समीक्षा करूंगा. भय और दहशत पैदा करने वाले जो भी तत्व होंगे, सख्ती के साथ उनके  मंसूबों को कुचलकर रख देंगे. इस प्रकार की किसी भी वारदात को कतई स्वीकार नहीं किया जाएगा. जो भी इस घटना में शामिल होगा, किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा."

वहीं, कमलेश तिवारी के परिजन आखिरकार अंतिम संस्कार के लिए राजी हो गए. प्रशासन द्वारा परिजनों की 9 मांगों के माने जाने के बाद कमलेश तिवारी के परिजन मृतक के अंतिम संस्कार के लिए राजी हुए. वहीं, सीएम योगी महाराष्ट्र से लौटने के बाद सीतापुर जाएंगे और कमलेश तिवारी के परिजनों से मुलाकात करेंगे.

लखनऊ मंडल के कमिश्नर मुकेश मेश्राम और डीएम सीतापुर अखिलेश तिवारी ने तिवारी के परिवार को लिखित आश्वासन दिया है. फिलहाल विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सीएम योगी मुम्बई में हैं.

कमलेश तिवारी के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है. मृतक कमलेश तिवारी परिजनों ने सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं. मृतक के परिजनों ने बीजेपी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी सरकार हिंदूवादी नेताओं की हत्या करा है. उन्होंने कहा कि कमलेश तिवारी को लगातार धमकी मिल रही थी. कई बार प्रशाशन से इसकी शिकायत की गई. धमकी मिलने के बाद सुरक्षा बढ़ाने की बजाए घटा दी गई. उन्होंने शासन और प्रशासन दोनों को कमलेश की हत्या के लिए जिम्मेदार बताया है.

कमलेश तिवारी हत्या मामले में पुलिस ने बिजनौर के दो मौलानाओं मोहम्मद मुफ़्ती नसीम काज़मी और इमाम मौलाना अनवारुल हक के खिलाफ 302 यानी हत्या का मुकदमा दर्ज किया है. आरोपियों ने कमलेश का सिर कलम करने पर 1.5 करोड़ का ईनाम रखने का आरोप है.