पेशावरः पाकिस्तान के विश्वविद्यालयों में छात्र संघों की बहाली की मांग को लेकर हाल ही में हुए प्रदर्शन के बीच प्रधानमंत्री इमरान खान ने झुकते हुए वादा किया है कि उनकी सरकार जल्द ही विश्वविद्यालयों में स्टूडेंट यूनियन बनाने को मंजूरी दे सकती है, लेकिन इसके लिए कुछ शर्तें लगाई जाएंगी। पिछले कई हफ्तों से पाकिस्तान की अलग-अलग यूनिवर्सिटी में छात्र सरकार के खिलाफ आंदोलन कर रहे थे, जिसके कारण कामकाज ठप्प पड़ा था. अब इमरान ने छात्रों को आश्वासन दिया और साथ ही साथ तंज भी कसा है।

Universities groom future leaders of the country & student unions form an integral part of this grooming. Unfortunately, in Pakistan universities' student unions became violent battlegrounds & completely destroyed the intellectual atmosphere on campuses.

— Imran Khan (@ImranKhanPTI) December 1, 2019

इमरान खान ने ट्वीट कर लिखा, ‘विश्वविद्यालय भविष्य के नेता तैयार करते हैं और स्टूडेंट यूनियन इसका ही एक हिस्सा है लेकिन दुर्भाग्यवश, पाकिस्तान की यूनिवर्सिटियां हिंसा का अखाड़ा बन गई हैं, जिसने कैंपस के माहौल को बिगाड़ा है। हम जल्द ही नए कोड ऑफ कंडक्ट तैयार करेंगे, जो दुनिया की यूनिवर्सिटियों से मेल खाते होंगे. ताकि स्टूडेंट यूनियन के कल्चर को वापस यूनिवर्सिटियों में लाया जा सके।’ बता दें कि पाकिस्तान में सैन्य तानाशाह जनरल जिया-उल-हक ने 1984 में छात्र संघों पर प्रतिबंध लगा दिया था और छात्रों की मांग के बावजूद उन्हें पूरी तरह बहाल नहीं किया गया है। हजारों छात्रों ने छात्र संघों को बहाल करने और शिक्षण संस्थानों में सुविधाओं में सुधार को लेकर शुक्रवार को 50 बड़े शहरों में रैलियां की थीं।

छात्रों के प्रदर्शन के सिलसिले में आयोजकों के खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज
उधर, पाकिस्तान के विश्वविद्यालयों में छात्र संघों की बहाली की मांग को लेकर हाल ही में हुए प्रदर्शन के सिलसिले में एक युवा नेता को गिरफ्तार किया गया है तथा प्रदर्शन के आयोजकों और प्रतिभागियों के खिलाफ मामले दर्ज किए गए हैं। मीडिया में सोमवार को आईं खबरों में यह जानकारी दी गई है।'डॉन' समाचार पत्र की खबर के अनुसार लाहौर में सिविल लाइंस पुलिस ने सरकार के कहने पर मार्च के आयोजकों और 250 से 300 प्रतिभागियों के खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज किया है। शहर के एक पुलिस अधिकारी जुल्फिकार हमीद ने बताया कि छात्रों के खिलाफ कथित रूप से भड़काउ भाषण देने और सरकार तथा उसकी संस्थाओं के खिलाफ नारेबाजी के लिये मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने आयोजकों में शामिल एक छात्र नेता को भी गिरफ्तार किया है। समाचार पत्र ने अधिकारी के हवाले से कहा, "आयोजकों में से एक आलमगीर वजीर को दो दिन पहले गिरफ्तार किया गया। पुलिस इसके अलावा इस मामले में शामिल अन्य लोगों को भी गिरफ्तार करेगी।