भोपाल: मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी का नाम लिये बिना कहा कि ''एक विदेशी महिला से पैदा हुआ व्यक्ति राष्ट्रवादी नहीं हो सकता है.'' ठाकुर प्रदेश बीजेपी कार्यालय में एक कार्यक्रम के बाद भारत-चीन के बीच तनाव के संदर्भ में कांग्रेस के आरोपों पर बात कर रही थीं.

उन्होंने कहा, ''कांग्रेस को तो अपने गिरेबान में झांककर देखना चाहिये. उनमें न तो बोलने की सभ्यता है, न ही पार्टी में संस्कार हैं, न ही उनकी पार्टी में देशभक्ति है. मैं एक बात कहूंगी कि देशभक्ति आयेगी कहां से, जब दो देशों की सदस्यता लेकर रहेंगे.'' उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के नेतृत्व में देश सुरक्षित हाथों में है.

वहीं, कांग्रेस के मीडिया सेल के प्रभारी और पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने भी प्रज्ञा ठाकुर का नाम लिये बिना उन पर तंज करते हुए ट्वीट किया, ''कोई भी देशभक्त आतंकवादी नहीं हो सकता है. कोई भी गोडसे भक्त देशभक्त नहीं हो सकता है. जाकी रही भावना जैसी, प्रभु मूरत देखी तिन तैसी.....'' पटवारी अप्रत्यक्ष तौर पर 2008 में महाराष्ट्र के मालेगांव बम विस्फोट मामले के आरोपियों में से एक प्रज्ञा ठाकुर का उल्लेख कर रहे थे.

कोई भी देश भक्त आतंकवादी नहीं हो सकता है !
कोई गोडसे भक्त देश भक्त नही हो सकता है !
जाकी रही भावना जैसी, प्रभु मूरत देखी तिन तैसी...

— Jitu Patwari (@jitupatwari) June 28, 2020

इससे पहले प्रज्ञा ठाकुर ने आरोप लगाया था कि कांग्रेस की तरफ से नौ साल तक दी गई प्रताड़नाओं के कारण वह आज तक स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को झेल रही हैं. छठे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर बीजेपी कार्यालय में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ योग करने के बाद प्रज्ञा ने साल 2008 में हुए मालेगांव बम धमाकों के मामले में नौ साल तक जेल में बिताए दिनों को याद किया था.