एसपीजी सुरक्षा हटने के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की सुरक्षा में सेंध का मामला सामने आया है. उनके घर में एक संदिग्ध गाड़ी घुस आई, जिसमें कई लोग सवार थे. मिली जानकारी के मुताबिक प्रियंका गांधी वाड्रा के आवास के भीतर तीन महिला और तीन पुरुष एक बच्चे के साथ घुस आए थे.

जब वो गाड़ी से उतरे तो प्रियंका गांधी उनसे मिलीं और पूछा कि आखिर वो कहां से आ रहे हैं? इसके जवाब में उन्होंने कहा कि वो प्रियंका गांधी के फैन हैं और उनसे मिलने के लिए आए हैं. इसके बाद प्रियंका गांधी ने उन लोगों को चाय नाश्ता कराकर रवाना किया.

बताया जा रहा है कि प्रियंका गांधी उस वक्त एक अहम बैठक ले रही थीं. प्रियंका गांधी के दफ्तर ने आईजी सीआरपीएफ को लिखी एक चिट्ठी में सुरक्षा में ढील होने का ब्यौरा दिया है. इसके बाद सीआरपीएफ और दिल्ली पुलिस ने प्रियंका गांधी की सुरक्षा में चूक का ठीकरा एक-दूसरे पर फोड़ा है. सीआरपीएफ ने अपनी दलील में कहा कि एक्सेस का जिम्मा दिल्ली पुलिस का है.

वहीं, दिल्ली पुलिस का कहना है कि उनको किसी ने गेट खोलने का ग्रीन सिग्नल दिया था, तभी उन्होंने दरवाजा खोला था. सीआरपीएफ सूत्रों के मुताबिक यह घटना 26 नंवबर को करीब 2 बजे घटी. इस बारे में पूरी जानकारी जुटाई जा रही है. वहीं, गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा कि अभी इस घटना के बारे में पूरी जानकारी नहीं मिल पाई है. मैं इसकी विस्तृत जानकारी हासिल कर रहा हूं.

आपको बता दें कि पिछले महीने केंद्र सरकार ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, उनके बेटे राहुल गांधी और बेटी प्रियंका गांधी वाड्रा को दी गई एसपीजी सुरक्षा हटा दी थी. इसके बाद से इनको केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) द्वारा 'जेड प्लस' सुरक्षा प्रदान की जा रही है. कांग्रेस पार्टी ने गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाने का कड़ा विरोध कर रही है.