नई दिल्ली: जाने माने पत्रकार और दिल्ली जिला क्रिकेट एसोसिएशन (DDCA) के अध्यक्ष रजत शर्मा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. रजत शर्मा ने सोशल मीडिया पर अपने इस्तीफे की जानकारी दी. उन्होंने कहा के उनके लिए अपने सिद्धातों, ईमानदारी और पारदर्शिता के साथ काम करते हुए डीडीसीए का काम करना संभव नहीं हो रहा है इसलिए वे पद छोड़ रहे हैं. रजत ने कहा कि वे किसी भी तरह का समझौता करना नहीं चाहते हैं.

रजत शर्मा ने सवा साल पहले ही हुए चुनावों में आधे से ज्यादा वोट हासिल करते हुए अध्यक्ष पद हासिल किया था. वह चुनाव बीसीसीआई के नए संविधान के प्रावधानों के तहत हुआ था, लेकिन कई लोगों ने इस सही चुनाव करार नहीं दिया था और दोबारा चुनाव कराने की मांग की थी. इस मांग के साथ रजत शर्मा पर इस्तीफे का दबाव भी डाला जा रहा था.

रजत शर्मा ने अपने ट्वीट में जानकारी देते हुए कहा, "आज मैंने डीडीसीए के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है और उसे एपेक्स काउंसिल को भेज दिया है. मैं आप सभी को इस दौरान  मुझे दिए गए भरपूर समर्थन, सम्मान और लगाव  के लिए धन्यवाद करता हूं. दिल्ली क्रिकेट को शुभकामनाएं.

Today I have tendered my resignation from the post of President, DDCA and has sent it to the Apex Council. I thank all of you for your overwhelming support, respect and affection during my tenure. My best wishes to @delhi_cricket

— Rajat Sharma (@RajatSharmaLive) November 16, 2019

जुलाई 2018 को डीडीसीए के चुनावों में रजत ने 4.40 प्रतिशत वोट हासिल करते हुए ऐतिहासिक जीत हासिल की थी. जत शर्मा को डीडीसीए के पूर्व अध्यक्ष स्नेह बंसल और डीडीसीए के पूर्व पदाधिकारी एवं वर्तमान में भारतीय ओलंपिक संघ के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा का समर्थन था. शर्मा ने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी पूर्व क्रिकेटर मदनलाल को हराया था.  मदनलाल के गुट को सीके खन्ना और चेतन चौहान के समर्थकों का समर्थन हासिल था. मदनलाल के अलावा  वकील विकास सिंह भी अध्यक्ष पद के दावेदार थे.

प्रिय सदस्यों जबसे आपने मुझे DDCA का अध्यक्ष चुना है मैं समय समय पर आपको अपने काम के बारे में जानकारी देता रहा हूँ .मैंने DDCA को बेहतर बनाने के लिए, प्रोफ़ेशनल और पारदर्शी बनाने के लिए जो कदम उठाये उसके बारे में आपको बताया. आपसे किए गए वादों के पूरा होने की जानकारी दी.