भोपाल : 26 मार्च को देशभर में होने वाले राज्यसभा चुनाव स्थगित कर दिए है। कोरोना वायरस के मद्देनजर चुनाव आयोग ने ये फैसला लिया है । यह जानकारी मंगलवार को चुनाव आयोग ने दी।कोरोना वायरस के असर कम होने के बाद जल्द ही चुनाव आयोग नई तारीख जारी करेगा।ऐसी संभावना थी कि एहतियात बरतते हुए राज्यसभा चुनाव पहले से निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक 26 मार्च को ही होंगे। मगर अब यह स्पष्ट हो गया है कि 26 मार्च को होने वाला राज्यसभा चुनाव तय समय पर नहीं होगा।

असल में, कई शहर लॉक डाउन हैं. कई शहरों में धारा 144 लागू है. ट्रेन, बस, मेट्रो सब बंद हैं, ऐसे में विधायकों (वोटरों) का विधानसभा तक पहुंचना कठिन है।बाकी के 18 सीटों के लिए जिस तरह से सियासत चल रही है उसमें 1 विधायक के भी विधानसभा नहीं पहुंच पाने से अनावश्यक राजनैतिक बवाल मचेगा, इसलिए, चुनाव टालने के हालात बन गए हैं।

बता दें आगामी 26 मार्च रो राज्यसभा चुनाव के लिए मतदान होना था।महाराष्ट्र, ओडिशा, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल से चुने गए सदस्य दो अप्रैल को सेवानिवृत्त हो जाएंगे जबकि आंध्रप्रदेश, तेलंगना, बिहार, झारखंड, राजस्थान, गुजरात, मणिपुर, असम, छत्तीसगढ़, हरियाणा, मध्यप्रदेश और हिमाचल के संदस्यों का कार्यकाल नौ अप्रैल और मेघालय के सदस्यों का कार्यकाल 12 अप्रैल को समाप्त होगा ।महाराष्ट्र की सात, ओडिशा की चार, तमिलनाडु की छह, पश्चिम बंगाल की पांच, आंध्र प्रदेश की चार, तेलंगाना की दो, असम की तीन, बिहार की पांच, छत्तीसगढ़ की दो, गुजरात की चार, हरियाणा की दो, हिमाचल की एक, झारखंड की दो, मध्य प्रदेश की तीन, मणिपुर की एक, राजस्थान की तीन और मेघायल की एक राज्यसभा सीटों पर चुनाव होगा।  मतदान में बीजेपी और कांग्रेस के बीच कुछ सीटों पर कांटे की टक्कर का दावा किया जा रहा था, लेकिन अब चुनावों को कुछ समय के लिए टाल दिया गया है।

दरअसल, मध्य प्रदेश में सांसद दिग्विजय सिंह, सत्यनारायण जटिया और प्रभात झा का कार्यकाल पूरा हो रहा है। कांग्रेस ने दो सीटों के लिए पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और फूल सिंह बरैया को उम्मीदवार बनाया है, वही बीजेपी ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और सुमेर सिंह को उम्मीदवार बनाया है। दोनों पार्टियों को एक एक सीट मिलना तय है लेकिन दूसरी पर मुकाबला रोचक होने की संभावना है, हालांकि आंकडों के हिसाब से दूसरी सीट भी बीजेपी को जाती नजर आ रही है।