नई दिल्ली : नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) को लेकर राजधानी दिल्ली के शाहीनबाग में हो रहा प्रदर्शन अब सूबे में विधानसभा चुनाव के करीब आते ही सियाली बयानबाज़ी का अखाड़ा बन गया है. बीजेपी के साथ ही मोदी सरकार के मंत्री भी इस प्रदर्शन पर सवाल उठा रहे हैं. केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा है कि शाहीन बाग एक विचार बन गया है और यहां टुकड़े-टुकड़े गैंग रह रहा है. बीजेपी ने सीएए और एनआरसी के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन को लेकर कांग्रेस और आम आदमी पार्टी पर भी निशाना साधा.

ये विरोध CAA का विरोध नहीं है, ये नरेन्द्र मोदी जी का विरोध है।

हमने बार-बार बताया कि नागरिकता संशोधन विधेयक किसी कि नागरिकता नहीं छिनता।

इस देश का हर मुस्लिम नागरिक इज्जत के साथ इस देश में रहता है और रहेगा: श्री @rsprasad pic.twitter.com/yYYngf0vVd

— BJP (@BJP4India) January 27, 2020

केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा, ''ये विरोध सीएए का विरोध नहीं है, ये नरेन्द्र मोदी जी का विरोध है. हमने बार-बार बताया कि नागरिकता संशोधन विधेयक किसी कि नागरिकता नहीं छिनता. इस देश का हर मुस्लिम नागरिक इज्जत के साथ इस देश में रहता है और रहेगा.’’ उन्होंने कहा, ‘’राहुल गांधी, केजरीवाल खामोश हैं, लेकिन उनके लोग खूब बोल रहे हैं. मनीष सिसोदिया बोलते हैं हम शाहीन बाग के साथ हैं. कांग्रेस के दिग्विजय सिंह और मणिशंकर अय्यर वहां जाकर क्या-क्या बोले हैं वो आप जानते हैं.’’

रविशंकर प्रसाद ने कहा, ‘’आजकल कांग्रेस के नेताओं का पाकिस्तान प्रेम बहुत कौतुहल का विषय बना हुआ है. मणिशंकर अय्यर जाएंगे तो अपने सारे विचार पाकिस्तान में रखेंगे, उनके दूसरे मित्र कभी हिंदू-पाकिस्तान तो कभी जिन्ना. मैं कांग्रेस के लोगों को एक बात साफ-साफ कहना चाहता हूं कि अब इस देश का बंटवारा होने नहीं दिया जाएगा.’’

कानून मंत्री ने आगे कहा, ‘’ये कैसा हिंदुस्तान हम बनाना चाहते हैं? ये कैसी दिल्ली हम बनाना चाहते हैं? दिल्ली में कुछ लोग होंगे टुकड़े-टुकड़े के नाम पर अपनी आवाज बुलंद करेंगे. क्या दिल्ली में ऐसे लोगों को जगह मिलनी चाहिए जो असम को भारत से काटने की बात करेंगे?’’

बता दें कि सीएए और एनआरसी को लेकर पिछले करीब डेढ़ महीने से दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में प्रदर्शन हो रहे हैं. इस प्रदर्शन में बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल हैं. प्रदर्शनकारी लगातार मोदी सरकार पर संविधान को कुचलने और लोकतंत्र को खत्म करने जैसे आरोप लगा रहे हैं. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि जबतक सरकार इस कानून को वापस नहीं लेती, तबतक उनका प्रदर्शन जारी रहेगा. शाहीब बाग की तर्ज पर देश के कई राज्यों में प्रदर्शन हो रहे हैं. मुंबई के नागपाड़ा इलाके में कल आधी रात से प्रदर्शन हो रहा है. यहां भी बड़ी संख्या में महिलाएं सड़क पर डटीं हुई हैं.