पत्ता हिले हवा तो चले, कौन अपना है पता तो चले। दैनिक भास्कर में भोत उठा पटक के माहौल की खबर हेगी साब। गोया के कोरोना काल की मंदी में किसका विकेट बचेगा और किसका डाऊन होएगा अभी कुछ नई कहा जा सकता। सुना है भां पे मीटर ऊपर से डाउन हो रिया हेगा। तीन बड़े वाले ऐसे अफसर टाइप के पत्रकारों का वजूद मुसीबत में चल लिया हे। इनमें से 2 तो दफ़्तर ही नई आ रिये। एक को उम्मीद है के शायद उनकी पतंग नई कटे। गोया के जो बंदे कबी दूसरों की छंटनी किया करते थे आज खुद उसी जाल में फंसे हुए लग रहे हैं। बाकी भोपाल आॅफिस से 4 पत्रकारों का हिसाब किए जाने की खबर है। ये ऐसे पत्रकार है जिन्होंने अखबार के लिए दिन-रात एक कर दिया था। वहीं तीन-चार लोगों में से किसी को डीबी स्टार में तो किसी को डीबी डिजिटल में शिफ्ट किया गया है। डीबी स्टार से एक बंदे का हटाया जाना तय माना जा रहा है। फिलहाल भास्कर स्टाफ में भेरियाट का माहौल है। हर कोई इस अंदेशे में है कि कहीं अगला नंबर उसका तो नहीं।