रोमः इन दिनों इटली की सड़कों पर पोस्टर्स में लगी सोनिया गांधी की अजीब तस्वीरें सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बनी हुई हैं। इन पोस्टर्स में सोनिया गांधी सहित दुनिया की जानी मानी महिलाओं की तस्वीरें छपी हैं जिनके फेस पर चोट के गहरे निशान हैं। दरअसल इटली के कलाकार अलेक्सांड्रो पलोंबो ने महिलाओं के साथ हिंसा को दिखाने के लिए सोनिया गांधी, मिशेल ओबामा और हिलेरी क्लिंटन जैसी वैश्विक महिला नेताओं की तस्वीरें इस्तेमाल की हैं। बता दें कि सोनिया गांधी का मूल नाम एड्विगे अन्तोनिया अल्विना मैनो है। इनका जन्म इटली  के लुसिआना में 9 दिसंबर 1946, को हुआ था। वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की वर्तमान अध्यक्ष हैं इनका विवाह भारत के पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी के साथ हुआ था।

पोस्टर्स में उनके चेहरों पर चोट के निशान दिखाये गए हैं, जिस पर लिखा है- सिर्फ इसलिए क्योंकि मैं महिला हूं। इन पोस्टर्स के नीचे लिखा है- मैं घरेलू दुर्व्यवहार की शिकार हूूं, मुझे कम वेतन दिया गया है। मुझे जैसा चाहिए, वैसा कपड़े पहनने का अधिकार नहीं है। मैं तय नहीं कर सकती कि मैं किससे शादी करूंगी। मेरे साथ बलात्कार हुआ था। इस सीरीज में सोनिया गांधी, मिशेल ओबामा और हिलेरी क्लिंटन के अलावा, जमर्नी की चांसलर अंजेली मर्केल, म्यांमार की आंग सान सू की, अमेरिकी कांग्रेसी अलेक्सैंड्रिया ओकासियो कोर्टेज और हॉलीवुड अभिनेत्री क्रिस्टन स्टीवर्ट जैसी हस्तियां शामिल हैं।

बकौल पलोंबो, महिलाओं से हिंसा एक वैश्विक समस्या है। मिलान की दीवारों पर लिंग आधारित हिंसा के खिलाफ प्रचार के लिए अलेक्सांड्रो ने इन पोस्टर्स को लगाया है। वैश्विक स्तर की महिला नेताओं के खून लगे और जख्मी चेहरों के पोस्टर्स महिलाओं के खिलाफ अपराधों और हिंसा को रोकने के लिए मजबूत संस्थागत उपायों की कमी की याद दिलाते हैं।

एलेक्सांड्रो के प्रैस ऑफिस ने एक बयान में कहा, ‘‘इन पोस्टरों का उद्देश्य राज्यों के प्रमुखों द्वारा दी जाने वाली संस्थागत प्रतिक्रिया और लोगों की राय और नीतियों को बदलने वाले प्रमुख लोगों को इस दिशा में सोचने के लिए उत्तेजित करना था। एलेक्सांड्रो चाहते हैं कि इसके जरिए संस्थानों और राजनीति से वास्तविक रूप में इस तरह के अपराधों की निंदा की जाए और लोगों को जागरूक किया जाए।