महाराष्ट्र,प्रताप नायक: महाराष्ट्र के सोलापुर के सांसद जयसिद्धेश्वर स्वामी का जाति प्रमाण पत्र निरस्त कर दिया गया है. जाति प्रमाण पत्र जांच समिति ने यह फैसला लिया है.  जयसिद्धेश्वर स्वामी को अपना पद भी खोना पड़ सकता है. पूर्व केंद्रीय मंत्री सुशील कुमार को लोकसभा चुनाव में परास्त करने वाले बीजेपी सांसद जय सिद्धेश्वर शिवाचार्य स्वामी का जाति प्रमाण पत्र अवैध घोषित कर दिया गया है. महाराष्ट्र की सोलापुर संसदीय सीट से अनसूचित जाति के लिए आरक्षित है. स्वामी ने इस सीट से शिंदे सहित वंचित विकास आघाड़ी व डॉ भीमराव आम्बेडकर के पौत्र प्रकाश आंबेडकर को हराकर यह सीट जीती थी.

इससे स्वामी की संसद सदस्यता पर खतरा मंडराने लगा है और उपचुनाव की संभावन जताई जा रही है. भाजपा सांसद जयसिद्धेश्वर स्वामी ने लोकसभा चुनाव में उम्मीदवारी के साथ जाति का भी प्रमाण पत्र दिया था जिसमें उनकी जाति बेड जंगम बताई गई है. स्वामी की बेड जंगम जाति को लेकर प्रमोद गायकवाड, मिलिंद मुले और विनायक कंदकरे ने विरोध किया था

इसके खिलाफ जाति पड़ताल समिति में शिकायत की थी. हिंदू लिंगायत होते हुए बेडा जंगम जाती का प्रमाणपत्र दिया था ऐसा आरोप है. जयसिद्धेश्वर स्वामी हाईकोर्ट में इसके खिलाफ अपील करेंगे.

कौन हैं जयसिद्धेश्वर स्वामी
जयसिद्धेश्वर स्वामी लिंगायत समाज के धर्मगुरू हैं. उन्होंने पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ा था और दिग्गज नेता सुशील कुमार शिंदे को करीब डेढ़ लाख से अधिक मतों से पराजित किया था. जाति प्रमाण पत्र रद्द होने से उनकी सांसदी खतरे में हैं, लेकिन वह जिला जाति पड़ताल समिति के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील कर सकते हैं.