जहां पिता की परवरिश में उनका प्यार झलकता है वहीं मां की ममता, दुलार और चिंता बच्चे के लिए उनका प्यार जाहिर कर देती हैं। पेरेंट्स तो बच्चों को अपनी बात आसानी से बोल देते हैं लेकिन बात जब बच्चों की हो तो उन्हें थोड़ी झिझक होती है। यहीं नहीं कुछ बच्चे तो अपना प्यार जाहिर करने में भी थोड़ी कंजूसी कर देते हैं। हालांकि ऐसा नहीं है कि वह अपने पेरेंट्स से प्यार नहीं करते लेकिन कुछ बातें ऐसी होते हैं, जिन्हें वो चाहकर भी बोल नहीं पाते। आज अपने इस पैकेज में हम आपको कुछ ऐसी ही बातें बताने जा रहे हैं, जो वो अपने माता-पिता से कहना तो चाहते हैं, पर कभी कह नहीं पाते हैं।
 
मैं आपसे बहुत प्यार करता हूं
बेटा हो या बेटी, अक्सर टीनएजर्स अपने माता-पिता से खुलकर अपना प्यार जाहिर नहीं कर पाते। वो कहना तो चाहते हैं लेकिन एक झिझक उन्हें यह कहने से रोक देती है।

अब आप नौकरी छोड़ आराम करो
जब बच्चे अपने माता-पिता को काम से थक आते देखते हैं तो उन्हें मन में यही आता है कि अब उनके पेरेंट्स को नौकरी छोड़ देनी चाहिए और आराम करना चाहिए। मगर वह चाहकर भी यह बोल नहीं पाते क्योंकि जब यह बोलने का वक्त होता है तब हम खुद जिंदगी में कहीं स्टैंड नहीं करते।

प्यार में टूटा दिल टूटता
प्यार में दिल टूटने पर आप देवदास बनकर घर में घूमते रहते हैं। आपका लटका हुआ चेहरा देख जब पेरेंट्स इसका कारण पूछते हैं तो आप फौरन उन्हें सबकुछ बताना चाहते हैं लेकिन चाहकर भी सच नहीं कह पाते।

मैं अपनी गर्लफ्रेंड या बॉयफ्रेंड के साथ था...
गर्लफ्रेंड या बॉयफ्रेंड के साथ घूमकर जब आप घर लौटते हैं तो पेरेंट्स का सबसे पहला सवाल यही होता है कि आप कहां थे। मगर माता-पिता का गुस्सा देख आप डर जाते हैं और न चाहते हुए भी झूठ बोल देते हैं।

मैं इस लड़की से शादी करना चाहता हूं
भारतीय लड़के/लड़कियां अपने पेरेंट्स को यह भी कभी नहीं बता पाते कि वो किसी से प्यार करते हैं और उन्हें ही अपना जीवनसाथी बनाना चाहते हैं।

भले ही आज वक्त बदल गया हो लेकिन हर लड़के/लड़की में भारतीय संस्कृति अभी भी जिंदी है। यही कारण है कि जो माता-पिता के सामने कुछ कहने से हमें रोक लेती हैं।