स्टॉकहोम : भौतिकी के लिए नोबेल पुरस्कार की घोषणा कर दी गई है. इस बार भौतिकी के क्षेत्र में तीन वैज्ञानिकों को नोबेल पुरस्कार दिया गया है. ये तीन वैज्ञानिक हैं स्विट्जरलैंड के मिशेल मेयर, दिदिएर क्वेलोज और कनाडाई-अमेरिकी  मूल के जेम्स पेबल्स. स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में मंगलवार को भौतिकी के लिए 2019 के नोबेल पुरस्कारों की घोषणा की गई. 14 अक्टूबर तक कुल 6 अलग-अलग क्षेत्रों में नोबेल पुरस्कारों की घोषणा की जाएगी. इससे पहले सोमवार को चिकित्सा के क्षेत्र में तीन वैज्ञानिकों अमेरिकी विलियम जी केलिन, ग्रेग एल सेमेन्जा और ब्रिटिश वैज्ञानिक पीटर जे रैटक्लिफ को यह पुरस्कार दिया गया था.

ब्रह्मांड का विकास और ‘कॉस्मॉस में पृथ्वी के स्थान’ को समझने में इन तीनों वैज्ञानिकों के योगदान के लिए इन्हें भौतिकी के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है.पुरस्कार का आधा हिस्सा भौतिक ब्रह्माण्ड विज्ञान में सैद्धांतिक खोजों के लिए जेम्स पीबल्स को और दूसरा आधा हिस्सा सूरज की तरह के तारे की परिक्रमा करने वाले ‘एक्सोप्लैनेट’ की खोज के लिए मिशेल मेयर और डिडिएर क्वेलोज को साझा रूप से दिया जाएगा. ‘एक्सोप्लैनेट’ सौर मंडल के बाहर तारे की परिक्रमा करने वाले ग्रह को कहा जाता है.

इस साल शांति के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार के लिए टीनएज पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग को प्रबल दावेदार माना जा रहा है. ग्रेटा के चलाए गए 'फ्राइडे फॉर फ्यूचर'  कैंपेन ने दुनिया भर के टीनएज और बड़ों को भी पर्यावरण परिवर्तन  के सामने आने वाली चुनौतियों के प्रति जागरूक किया था और दुनिया भर में स्टूडेंट्स की ओर से इसे जबरदस्त समर्थन मिला था. ग्रेटा अभी मात्र 16 साल की हैं और वो स्वीडन की रहने वाली हैं.

नोबेल पुरस्कार विजेता को पुरस्कार के तौर पर करीब साढ़े चार करोड़ रुपये की राशि दी जाती है. इसके साथ उन्हें 23 कैरेट सोने से बना 200 ग्राम का पदक और प्रशस्ति पत्र भी दिया जाता है. विजेताओं को जो पदक दिया जाता है उसमें एक ओर अल्फ्रेड नोबेल (Alfred Nobel) की तस्वीर और उनकी जन्म और मृत्यु की तिथि और दूसरी ओर यूनानी देवी आइसिस का चित्र बना होता है. बता दें कि अल्फ्रेड नोबेल के नाम पर ही हर साल नोबेल पुरस्कार दिया जाता है.

इन बार पुरस्कार जीतने वाले तीनों वैज्ञानिकों को साझा 90 लाख क्रोना (स्वीडन की मुद्रा) नगद, एक स्वर्ण पदक और एक डिप्लोमा दिया जाएगा. स्टॉकहोम में 10 दिसंबर को एक कार्यक्रम में इन्हें सम्मानित किया जाएगा. इस बार नोबेल एकेडमी 2018 और 2019 दोनों ही सालों के लिए साहित्य के नोबेल पुरस्कारों का ऐलान करेगी. पिछले साल यौन उत्पीड़न मामले के चलते 2018 के साहित्य के नोबेल की घोषणा को अकादमी ने स्थगित कर दिया था.