जबलपुर : रेल्वे की मनमानी इन दिनों चरम सीमा पर है जिसके चलते न सिर्फ यात्री परेशान हो रहे है बल्कि लुट भी रही है।ताजा मामला फिर सामने आया है जहाँ ईएफटी के मुताबिक कुल राशि 450 रुपए होना दर्शा रहा है पर जबलपुर रेलवे स्टेशन पर टीटीई ने एक यात्री से 450 की जगह 700 रुपए वसूल लिए। इसकी जानकारी यात्री को इटारसी पहुचने पर लगी। इससे यह तो स्पष्ट हो गया कि यात्री को किन किन फंडों का प्रयोग कर लुटा जा रहा है।

इस संबंध में हाथी टोल व्हीकल निवासी विक्की सपेरा ने बताया है कि वह आज इटारसी जाने के लिए जबलपुर रेलवे स्टेशन पहुचा था। वहां उसने जबलपुर से इटारसी की एक जनरल टिकट विण्डो से खरीदी। इसके बाद जब वह ट्रेन क्रमांक 12577 आई तो वह उसमें सवार होता की उसके पहले ही स्टेशन पर एक टीटीई ने उन्हें रोक लिया और उसकी टिकिट चैक करते हुए उसकी राशिद बना दी। यात्री रशीद नहीं बनाने मिन्नत करता रहा पर सफल नहीं हुआ। बाद में यात्री ने टीटी को 700 रुपए दिए और उक्त ट्रेन से रवाना हो गया।यात्री ने बताया कि जो राशिद बनाई गई है उसके मुताबिक फरो 200 और अतिरिक्त किराया 250 कुल 450 रुपए होते है। पर टी. टी ने राशिद में टोटल 700 रुपए लिख कर यात्री को थमा दिया।

यात्री का कहना था कि यात्रियों की जेब से कैसे किराये के साथ अतिरिक्त रुपए निकाले जाए इसके लिए टीटी और बुकिंग कर्मी जोड़,घटाना और गुड़ा भाग में हेराफेरी कर रहे है।खास बात यह है कि यात्री ने रेल्वे के अधिकारियों को अधीनस्थ रेलकर्मियों की कार्यशैली की जानकारी भी दी लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।जिसके चकते गलत कार्य में लिप्त कर्मियों का हौसला बढ़ रहा है।