लंदनः दो बड़े हादसों के बाद 737 मैक्स विमानों की रूकी खऱीद की अफवाहों पर उस समय विराम लग गया जब ब्रिटिश एयरवेज के मालिक IAG ने 737 मैक्स के लगभाग 200 विमानों को खरीदने के लिए आर्डर पत्र पर हस्ताक्षर किए । ये सौदा बोइंग के लिए बड़ी राहत बताई जा रही है। बोइंग एयरलाइन ने कहा कि यह तय था कि बोइंग विमान आने वाले महीनों में सेवा में लौट आएंगे और इस डील से उसके दोबारा परिचालन का रास्ता साफ हो गया है। बता दें कि बोइंग वर्तमान में दो घातक दुर्घटनाओं के बाद 737 मैक्स विमानों के लिए एक सॉफ्टवेयर फिक्स विकसित करने की कोशिश कर रहा है।

इथियोपियाई एयरलाइंस की उड़ान दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद मार्च में सभी 737 मैक्स विमानों पर सख्ती से रोक लगा दी गई थी। गौरतलब है  कि दो बड़े विमान हदासों के बाद खबर थी   बोइंग  मैक्स 737 विमान का नाम बदलने को  तैयार हो गई  है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कहा जा रहा था कि बोइंग अपने नवीनतम 737 विमान में से 'मैक्स' को हटा सकती है। पेरिस एयर शो के दौरान कंपनी के चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर ग्रेग स्मिथ ने  भी सोमवार को कहा था कि  "मैं कहता हूं कि हम सभी इनपुट के लिए खुले विचार रखते हैं  लेकिन फिलहाल इसका नाम बदलने की कंपनी की कोई योजना नहीं है। ये विमान मार्केट में सबसे अधिक बिकने वाला विमान रह चुका है।

कंपनी विमान के ब्रांडिंग और तकनीकी मुद्दों के लिए बाहरी सलाहकारों की मदद भी ले रही है। अगर बोइंग मैक्स की ब्रांडिंग नहीं बदल सकती है तो वो राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा करीब दो महीने पहले दी गई सलाह मान सकती हैजिसमें ट्रंप ने कहा था कि कंपनी को एक नए नाम के साथ विमान को रिब्रांड करना चाहिए। अब ये वैश्विक नियामकों पर निर्भर करता है कि बोइंग का ये विमान दोबारा उड़ान भरेगा या नहीं।विमान से पांच महीने से भी कम वक्त में दो हादसों में 346 लोगों की मौत हो गई थी। ऐसे में लोगों का विश्वास जीत पाना कंपनी के लिए काफी मुश्किल होगा।