पाकिस्तान ने फरवरी में बालाकोट स्ट्राइक के बंद पड़े अपने एयरस्पेस को सामान्य फ्लाइट्स के लिए खोल दिया है। इससे एयर इंडिया समेत कई भारतीय विमानन कंपनियों को बड़ा फायदा होगा। पाकिस्तान की ओर से एयरस्पेस के बंद किए जाने के बाद से एयरलाइंस कंपनियों को लंबे रास्तों से सफर करना पड़ रहा था। इस कारण उनको ज्यादा धन खर्च करना पड़ रहा था।

एयर इंडिया को होगा बड़ा फायदा
पाकिस्तान ने सोमवार की रात को 12.41 मिनट पर अपने एयरस्पेस को खोलने का फैसला किया। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पाकिस्तानी अधिकारियों का कहना है कि भारतीय विमानन कंपनियां जल्द ही उसके एयरस्पेस का इस्तेमाल कर सकेंगी। पाकिस्तान सिविल एविएशन अथॉरिटी की ओर से रात को 12.41 बजे सभी एयरमैन (NOTAM) को नोटिस भेजकर कहा गया कि उसने तत्काल प्रभाव से सभी एयरलाइन कंपनियों के लिए अपने एयरस्पेस को खोल दिया है। पाकिस्तान के इस फैसले से भारत की सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया को बड़ा फायदा हुआ है। पाकिस्तानी एयरस्पेस के बंद होने के कारण एयर इंडिया को अब तक 491 करोड़ रुपए का नुकसान हो चुका है। यह नुकसान पाकिस्तान एयरस्पेस से बचने के लिए दूसरे देशों के जरिए उड़ान भरने के कारण हुआ है।

26 फरवरी से बंद पड़ा था पाकिस्तानी एयरस्पेस
26 फरवरी 2019 को भारत की ओर से बालाकोट में आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद के ठिकानों पर एयर स्ट्राइक किए जाने के बाद से पाकिस्तान ने अपने एयरस्पेस के इस्तेमाल पर रोक लगा दी थी। पड़ोसी देश ने अपने 11 में से केवल दो एयर रूट खोल रखे थे जो दक्षिण क्षेत्र में हवाई सफर करने के लिए मुफीद थे। इसी के तहत भारतीय वायु सेना ने 31 मई को अपने एयरस्पेस में लगाए गए सभी अस्थायी प्रतिबंध हटा दिए थे। लेकिन इससे कॉमर्शियल एयरलाइंस को कोई लाभ नहीं मिल रहा था। सभी विमानन कंपनियां पाकिस्तानी एयरस्पेस खुलने का इंतजार कर रही थीं।

कंपनियों को हुआ इतने का नुकसान
पाकिस्तानी एयरस्पेस भारत में सबसे ज्यादा एयर इंडिया की दिल्ली से यूरोप और अमेरिका जाने वाली फ्लाइट्स को हुआ। पाकिस्तानी एयरस्पेस बंद होने के कारण सरकारी विमानन कंपनी को 2 जुलाई तक 491 करोड़ रुपए का नुकसान हो चुका है। इसके अलावा निजी विमानन कंपनी स्पाइसजेट को 30.73 करोड़ रुपए, इंडिगो को 25.1 करोड़ रुपए और गो एयर को 2.1 करोड़ रुपए का नुकसान हो चुका है। यह जानकारी केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने 3 जुलाई को राज्यसभा में दी थी।