कत्ल हो तो मेरा सा मौत हो तो मेरी सी, मेरे सोगवारों में आज मेरा कातिल है। पड़ोस की जो औरत वरुण नामक मासूम बच्चे का शव तलाशने का नाटक कर रही थी, वही उसकी कातिल थी। बैरागढ़ चीचली में बच्चे को ढूंढने के लिए सैकड़ों पुलिस कमी पूरे इलाके को छानते रहे। बाकी वो मिला घर के एकदम पास वाले मकान में। कमला है साब भोपाल पुलिस भी। पुलिस की इस काहिली पे अखबार ने उम्दा खबरदारी करी। और तो और सर्चिंग करने वाले कोलार टीआई अनिल वाजपेई की टीम तो उस कातिल महिला के घर की भी तलाशी ले चुकी थी फिर भी कुछ सुराग उन्हें नहीं मिला। खबर को पूरी तरतीब के साथ फं्रट से लेके सिटी पेज तक पे करीने से पेश किया गया। इसके बावजूद डीआईजी साब के रए हेंगे को पुलिस टीम को इनाम देंगे।