ये सरकार बी खां कुछ काम तो हरकुछ कर रई हेगी। अब भोपाल से सीहोर और औबेदुल्लागंज भी जोड़ने कि पिलानिंग हो रई हे। अरे झां तो बजट कम पड़ रिया हेगा। बाकी भोपाल को कैपिटल रीजन वाली खबर यहां ठीक ठाक ही आई। मप्र के आधे जिलों में मिलावटी दूध बिक रहा है। इनपे जल्दी शिकं जा कसो सरकार। ये मेट्रो-फेट्रो तो आती रहेगी। अखबार लिखता है कि दूध और मावे में मिलावट का भोत बड़ा नेटवर्क हेगा। तालाब के कैचमेंट में जैविक खेती के लिए पचास करोड़ खर्चनके बाद भी खेती नहीं होने वाली खबर शानदार रही। दुर्लभ बीमारी जीबीएस के मरीज बढ़ रहे हैं। प्रवीण श्रीवास्तव की जानदार एक्क्लूसिव। तीन आईएएस अफसरों के खिलाफ प्रकरण दर्ज होने पे भी अहम पदों पे जमे होने वाला आईटम सटीक रहा।