रामपुर: जबरन और नियमों की धज्जियां उड़ाकर जमीन हथियाने के मामले में रामपुर के सांसद आजम खान के खिलाफ अब मनी लांड्रिंग का शिकंजा कसने की तैयारी शुरू हो गई है. इसके लिए ईडी ने आजम खान से संबंधित मुकदमों की एफआईआर जुटाना शुरू कर दिया है. जानकारी के मुताबिक, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने भी सपा सरकार में पूर्व मंत्री और रामपुर से सांसद मोहम्मद आजम खान के खिलाफ कार्रवाई और उनसे संबंधित संपत्ति का ब्यौरा मांगा है.  

इससे माना जा रहा है कि ईडी की जांच में भी अब आजम खान फंस सकते हैं. प्रवर्तन निदेशालय ने रामपुर के जिलाधिकारी से इसकी जानकारी मांगी है. साथ ही पुलिस से जमीनों पर अवैध कब्जों से लेकर अन्य सभी मामलों में दर्ज मुकदमों की प्रतियां मांगी हैं. रामपुर के डीएम का कहना है कि जो दस्तावेज ईडी ने मांगे हैं, हम उन्हें इकट्ठा करवा रहे हैं. 

उन्होंने बताया कि ईडी ने पत्र में पूछा कि इस बात की जानकारी दी जाएं कि हमने जितनी जांच की है? उनमें कितनी संपत्तियां ओर परिसंपत्तियों हैं और कितनी जगह पर अवैध कब्जे हैं?  

आपको बता दें, पिछले कुछ दिनों में आजम खान, आले हसन खान और मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी के खिलाफ रामपुर में कुल 27 एफआइआर दर्ज कराये जा चुके हैं. इनमें से 25 एफआईआर किसानों ने और दो एफआईआर जिला प्रशासन ने दर्ज कराई हैं.

किसानों का आरोप है कि आजम खान ने मंत्री रहते हुए दबाव डालकर उनसे जमीन हथिया ली.  आजम खान द्वारा रामपुर में जमीन हथियाने के नए-नए मामले सामने आ रहे हैं. वहीं, रामपुर सांसद का कहना है कि किसानों से जो भी जमीन ली गई, उसके एवज में उन्हें पैसें दी दिए गए थे. जमीन हथियाई नहीं, बल्कि खरीदी गई है.