नई दिल्लीः महाराष्ट्र के कई जिलों में पिछले कुछ दिनों से रुक-रुक कर बारिश हो रही है. जिससे इन क्षेत्रों में जनजीवन बुरी तरह से अस्त-व्यस्त हो गया है. एक ओर जहां लोगों को भारी जलभराव का सामना करना पड़ रहा है वहीं दूसरी ओर नदियों और बांधों का जलस्तर भी तेजी से बढ़ रहा है, जिससे लोगों की समस्याएं और भी बढ़ती जा रही है. महाराष्ट्र के सांगली जिले के मिरज में कृष्णा नदी में भी पानी तेजी से बढ़ रहा है. जिसके चलते आधा इलाका पानी में डुब गया है. सांगली के शामराव नगर, पत्रकार नगर, तिलक चौक, कोल्हापुर रास्ता, सांगली वाडी समेत कई उपनगरीय इलाकों में पानी भरा है.

सांगली शहर और उपनगरीय इलाकों में करीब 43000 लोगों को निचले इलाकों से सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है. मदद के लिए एनडीआरएफ की चार टीम, टेरिटोरियल आर्मी की टीम, रेवेन्यू डिपार्टमेंट, पुलिस, महानगरपालिका , जिला परिषद और ग्राम पंचायत की टीमें जुटी हुई हैं. बाढ़ के चलते 11700 हेक्टेयर खेती को नुकसान पहुंचा है.

कृष्णा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है.वहीं वृद्ध, महिलाओं और बीमारों को प्राथमिकता से वोट में बिठाकर सुरक्षित ठिकानों पर छोड़ा जा रहा है. बता दें महाराष्ट्र के कई जिलों में इन दिनों बारिश के पानी ने हर तरफ तबाही मचा रखी है. बारिश के चलते सड़कों और रेलवे ट्रेक पर जलभराव के चलते यातायात भी बुरी तरह से प्रभावित है.

जिसके कारण कई ट्रेनें रद्द कर दी गई हैं और लोगों का एक जगह से दूसरी जगह जाना भी बंद पड़ा है. वहीं लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए बाढ़ क्षेत्र में आने वाले इलाकों को पहले ही खाली करा दिया गया है और लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है.