उज्जैन, ब्यूरो : भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा है कि उसंगठन पर्व मना रहे कार्यकर्ता याद रखें कि 20 अगस्त को साधारण सदस्यता और 31 अगस्त को सक्रिय सदस्यता का काम बंद हो जाएगा। भाजपा से जुड़ने को आतुर लोगों के बीच जाकर उन्हें मेंबर बनाने का काम इन्हीं दिनों में पूरे करना है। प्रदेश अध्यक्ष सिंह ने ये बातें उज्जैन में बीजेपी के सदस्यता अभियान की संभागीय समीक्षा बैठक में कहीं। सिंह ने कहा कि एक सप्ताह पहले जम्मू कश्मीर में धारा 370 खत्म किए जाने पीएम नरेंद्र मोदी सरकार के फैसले को लेकर हर मंडल में कार्यक्रम किए जाने हैं। इसमें सरकार के फैसले का प्रचार करना है। जिन मंडलों में अभी तक यह कार्यक्रम नहीं हो सके हों, वहां इसे संपन्न करा लिया जाए। कश्मीर में धारा 370 खत्म होने के बाद सबकी जिम्मेदारी है कि जम्मू कश्मीर और लद्दाख के भाई बहनों को विश्वास दिलाएं कि इस धारा के खत्म होने से उनका हित है। इसके विपरीत कांग्रेस और पी. चिदंबरम जैसे इस पार्टी के नेता कश्मीरी भाई बहनों को उकसाने का काम कर रहे हैं। चिदंबरम जैसे कांग्रेस नेताओं को ऐसा करने के लिए शर्म आनी चाहिए। भाजपा के कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों की जिम्मेदारी है कि वे कांग्रेस नेताओं की इस मानसिकता का विरोध करें और जनता के बीच धारा 370 के फायदे को प्रचारित करें।

इस बैठक में प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत भी मौजूद रहे। इसके पहले उज्जैन में बैठक के लिए जाते समय प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह देवास में रुके। यहां सिंह ने कार्यकर्ताओं और जिले के पदाधिकारियों से सदस्यता अभियान को लेकर बात की। इसके बाद वे उज्जैन की बैठक के लिए रवाना हुए।

सक्रिय सदस्य के लिए कमल संदेश और चरैवेति जरूरी
जिन लोगों को सक्रिय सदस्य बनाने का काम किया जा रहा है, उनसे करीब पांच सौ रुपए की राशि मेंबरशिप के रूप में ली जाती है। इसमें पार्टी की ओर से प्रकाशित पत्रिकाएं कमल संदेश और चरैवेति की अनिवार्यता शामिल रहती है। इसके लिए कम से कम तीन साल की साधारण सदस्यता होना जरूरी है। इस साल 25 सदस्य बनाने की शर्त जुड़ी है, जिसके बारे में भी बताया जा रहा है।

चुनाव प्रभारी व सह प्रभारी कल दिल्ली में होंगे
संगठन के प्रदेश चुनाव प्रभारी प्रदेश भाजपा के कोषाध्यक्ष हेमंत खंडेलवाल और चुनाव सह प्रभारी व प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष विजेश लुनावत कल दिल्ली में होने वाली संगठन चुनाव संबंधी गाइडलाइन की बैठक में शामिल होंगे। दोनों ही नेता इसके बाद जिलों में चुनाव प्रभारी की नियुक्ति करेंगे।

सितम्बर में वेरीफाई होंगे सदस्यता रजिस्टर
संगठन चुनाव के लिए सांकेतिक कार्यक्रम घोषित कर चुकी भाजपा ने सितम्बर में सभी मंडलों में तैयार किए गए सदस्यता रजिस्टरों को वेरीफाई करने का फैसला किया है। जिले के रजिस्टर की जांच के लिए एक पदाधिकारी जिले के बाहर और दो जिले के रहेंगे। इसी तरह मंडल के मामले में एक पदाधिकारी मंडल से बाहर का व दो मंडल क्षेत्र के शामिल रहेंगे। ये देखेंगे कि किसी की मेंबरशिप में गड़बड़ी तो नहीं है। मेंबरशिप की जांच होने के बाद उसी के आधार पर मतदाता सूची तैयार होगी जो अक्टूबर व नवम्बर में होने वाले बूथ, मंडल और जिला तथा प्रदेश समितियों के चुनाव में मतदान के अधिकार देगी।