राजनीतिक संवाददाता, भोपाल : प्रदेश में अब चुनाव के जरिए युवा कांग्रेस और एनएसयूआई के अध्यक्ष नहीं चुने जाएंगे। प्रदेश कांग्रेस के नए अध्यक्ष के ऐलान के साथ ही युवा कांग्रेस और एनएसयूआई के नए अध्यक्ष का भी ऐलान हो सकता है। दोनों ही संगठनों के प्रदेश अध्यक्षों का कार्यकाल कई दिनों पहले पूरा हो गया था, लेकिन विधानसभा और लोकसभा चुनाव के चलते इनके चुनाव टाल दिए गए थे।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा युवा कांग्रेस और एनएसयूआई में चुनाव के जरिए अध्यक्ष और पूरी प्रदेश कार्यकारिणी की चयन प्रक्रिया को अब विराम लग सकता है। सोनिया गांधी के अध्यक्ष बनते ही चुनाव की प्रक्रिया को समाप्त किया जा सकता है। इस संबंध में प्रदेश कांग्रेस के कुछ नेता सोनिया गांधी से मुलाकात कर उन्हें दोनों संगठनों में चुनाव के दौरान उपजे मतभेदों को लेकर पार्टी अध्यक्ष को बताने जा रहे हैं। प्रदेश अध्यक्ष के निर्देश पर  पिछले दिनों प्रदेश कांग्रेस ने युवा कांग्रेस और एनएसयूआई के पूर्व में हुए चुनावों को लेकर रिपोर्ट तैयार की थी।  रिपोर्ट नये अध्यक्ष को सौंपे जाने को लेकर ही तैयार करवाई गई है। अब इन दोनों संगठनों की यह रिपोर्ट सोनिया गांधी को दी जाएगी।

अजय सिंह ने की थी चुनाव टालने की सिफारिश
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं तत्कालीन नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने विधानसभा चुनाव के ठीक पहले एआईसीसी को पत्र लिखकर एनएसयूआई के चुनाव टालने का कहा था। इसके पीछे भी उन्होंने यह हवाला दिया था कि छात्र संगठन के चुनाव में मतभेद हो जाते हैं, जिसक असर विधानसभा चुनाव पर पड़ सकता है। उनके इस पत्र के बाद ही प्रदेश में एनएसयूआई के चुनाव टाल दिए गए थे।