दिल्ली आजतक के आंत्रप्रेन्योर समिट में 'सपनों का घर' सेशन में चर्चा के दौरान Bullem Reality के प्रेम मोहन सिंह और Sunfrank ग्रुप के एमडी संतोष कुमार मिश्रा ने बताया कि रियल एस्टेट सेक्टर बहुत पॉजिटिव सेंटिमेंट के साथ प्रगति की राह पर है. अगले पांच साल में बहुत सी चीजें बदलने वाली हैं. जिस तरह से हाउसिंग सेक्टर में उछाल है, उससे 2025 तक देश की जीडीपी में यह 13 प्रतिशत तक योगदान दे सकता है. सरकार को भी चाहिए कि इसे इंडस्ट्री का दर्जा दे. अभी तक हमें साढ़े 13 प्रतिशत ब्याज पर लोन मिलता है. इंडस्ट्री का दर्जा मिलने पर बैंकों से सहूलियत मिल सकेगी.

अर्थव्यवस्था के संकट में होने पर ऑटो सेक्टर के जूझने को लेकर हुए सवाल को सन फ्रैन ग्रुप के संतोष मिश्रा ने खारिज कर दिया. उन्होंने कहा कि हाउसिंग सेक्टर में निगेटिव सेंटिमेंट नहीं है. यह पॉजिटिवि सेंटिमेंट के साथ आगे बढ़ रहा है. यह देश की अर्थव्यवस्था के लिए सकारात्मक संदेश है. बिल्डर्स ने कहा कि मोदी सरकार ने जिस तरह से नीतियां बनाई हैं, उससे रियल एस्टेट सेक्टर का फोकस लग्जरी से अफोर्डेबल हाउसेस की तरफ हुआ है.

झांसी से लेकर दुबई तक में प्रोजेक्ट शुरू करने वाले सनफ्रैन ग्रुप के संतोष मिश्रा ने कहा कि हम ऐसे बिल्डर हैं, जो सपने तोड़ते नहीं बल्कि जोड़ते हैं. समय पर प्रोजेक्ट पूरा कर पजेशन देते हैं. प्रेम मोहन सिंह ने बताया कि उन्होंने चार साल पहले 20 से 25 लोगों के साथ मिलकर बहुत चुनौतीपूर्ण समय में कंपनी खोली थी. उस वक्त लगा था कि रियल एस्टेट सेक्टर में प्रोफेशनलिज्म का अभाव है. बिल्डर और बॉयर के बीच रिश्ते में भरोसे का संकट था. ऐस में हमने रियल एस्टेट कंपनी के जरिए इन कड़ियों को जोड़ने का काम किया.

क्यों टूटता है लोगों का भरोसा
दिल्ली-एनसीआर में बिल्डरों से जुड़ीं तमाम शिकायतें आती हैं. पैसे देने के बाद भी तमाम लोगों को घर नहीं मिल पा रहे हैं. बिल्डर समय से प्रोजेक्ट पूरा नहीं करते हैं. इस पर संतोष मिश्रा ने कहा कि हर पैसे वाला बिल्डर नहीं बन सकता. किसी भी रियल एस्टेट ग्रुप को चलाने के लिए अनुभव होना चाहिए. पहले पैसे के दम पर आसानी से 50 और सौ करोड़ कीमत की जमीन लोग ले लेते थे. मगर तकनीकी रूप से मजबूत न होने के कारण वे तय समय में प्रोजेक्ट पूरा नहीं कर पाते थे. क्रेडिबिलिटी क्रंच के पीछे कई तरह की वजहें हैं.

रेरा से बिल्डर और बॉयर्स दोनों को लाभ
संतोष कुमार मिश्रा और बुलम रियलिटी के प्रेम मोहन सिंह ने कहा कि सरकार की ओर से रेरा कानून आने के बाद बिल्डर्स और बॉयर्स दोनों को फायदा हुआ है. रेरा घर के खरीदारों के लिए वरदान है. आम आदमी जब मकान लेने की तैयारी करता है तो उसे यह जांचना आसान हो गया है कि कौन सी चीज इन्वेस्टमेंट के लिए ठीक है. रेरा की साइट पर जाकर आप प्रोजेक्ट से लेकर उस बिल्डर की क्रेडिबिलिटी जांच सकेंगे. यही नहीं बिल्डर्स की रैकिंग भी अब रेरा के तहत होती है.

इसमें जो बिल्डर्स तय समय में प्रोजेक्ट पूरा करेंगे, भले ही उनका टर्नओवर कम हो, फिर भी वे अच्छी रैंकिंग हासिल कर सकते हैं. बिल्डर्स के लिए लाभ यह है कि अगर कोई तीन किश्तें नहीं जमा करता तो उसका दावा रद्द कर दूसरे को बेच देने का अधिकार मिलता है.