पणजी : मध्‍य प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री और वरिष्‍ठ भाजपा नेता शिवराज सिंह चौहान ने आर्टिकल 370 के मुद्दे पर कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्‍व को घेरा. उन्‍होंने कहा कि मुझे नहीं लगता कि आर्टिकल 370 के मुद्दे पर राहुल गांधी कुछ बोलेंगे क्‍योंकि वह तो रणछोड़दास गांधी बन चुके हैं. जब वह कांग्रेस के अध्‍यक्ष थे तो पार्टी के चुनाव हारने के बाद उसको मजबूत करने की जिम्‍मेदारी उनकी थी लेकिन उन्‍होंने ऐसा नहीं किया.

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने यहां रविवार को कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार के अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करने के बहादुरी भरे फैसले पर भ्रमित कांग्रेस टूट रही है. शिवराज सिंह चौहान भाजपा के अखिल भारतीय सदस्यता मुहिम के हिस्से के रूप में गोवा के कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि सत्तारूढ़ पार्टी उम्मीद करती है कि सोनिया गांधी हाल में जम्मू-कश्मीर के घटनाक्रम पर कांग्रेस के विचार को स्पष्ट करेंगी, क्योंकि राहुल गांधी पहले से ही लड़ाई छोड़ कर भाग चुके हैं.

चौहान ने कहा, "कांग्रेस टूट रही है. राहुल व सोनिया गांधी ने कुछ नहीं कहा है. सोनिया जी को कांग्रेस पार्टी के विचार स्पष्ट करने चाहिए. हम राहुल गांधी से बोलने की उम्मीद नहीं करते हैं. राहुल रणछोड़ दास बन चुके हैं. अध्यक्ष के तौर पर पार्टी को मजबूत करना उनका कार्य था, लेकिन उन्होंने बाहर जाने का विकल्प चुना."

Former Madhya Pradesh CM Shivraj Singh Chouhan: I don't expect Rahul Gandhi to speak on the matter (#Article370) because he has become Ranchoddas Gandhi. As president of the party, it was his job to strengthen the party after loss. But he didn't do so. (18/8/2019) https://t.co/8xVnQCroZH

— ANI (@ANI) August 18, 2019

शिवराज ने कहा, "कांग्रेस अभी भी भ्रम में है. विभिन्न नेता इस मुद्दे पर अलग-अलग बयान दे रहे हैं. मैं नहीं समझ पा रहा हूं कि यह कोई पार्टी है या कुछ और. कुछ नेता खुले तौर पर अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करने का समर्थन कर रहे हैं, जबकि कुछ पाकिस्तान की भाषा बोल रहे हैं." उन्होंने कहा कि पार्टी के एक बार परिवार राज व वंशवाद से छुटकारा पाने के बाद कांग्रेस का संकट समाप्त हो जाएगा.

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की 'गलत' नीतियों ने न केवल दीर्घकालिक जम्मू एवं कश्मीर समस्या पैदा की, बल्कि पुर्तगाली दासता से गोवा की आजादी में भी देरी हुई. भाजपा के भारत-व्यापी सदस्यता अभियान के क्रम में गोवा पहुंचे मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए यह भी कहा कि अनुच्छेद 370 को निरस्त किए जाने से जम्मू एवं कश्मीर से आतंकवाद और गरीबी, दोनों का उन्मूलन हो जाएगा.

शिवराज ने राज्य भाजपा मुख्यालय में मीडिया से कहा, "कांग्रेस और नेहरू के नेतृत्व के कारण पुर्तगाली कई वर्षो तक गोवा पर शासन करते रहे." उन्होंने कहा, "ऐसे हालात गलत प्राथमिकताओं के कारण पैदा हुए. मैं मानता हूं कि जिस तरीके से गोवा की प्रगति हुई, जम्मू एवं कश्मीर का भी विकास होगा. आतंकवाद के साथ गरीबी का उन्मूलन हो जाएगा."

शिवराज ने भारत का अहित करने वाली नीतियां लागू किए जाने के लिए जम्मू एवं कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री शेख अब्दुल्ला के प्रति नेहरू के 'अनुराग' को जिम्मेदार ठहराया.

उन्होंने कहा, "मुझे नेहरू के दृष्टिकोण पर कभी-कभी आश्चर्य होता है. जब पकिस्तानी कबायलियों ने भारत पर हमला किया और भारतीय बलों ने बहादुरी से पाकिस्तानी बलों को खदेड़ दिया, तब एकतरफा युद्धविराम की घोषणा की गई. इस मसले को संयुक्त राष्ट्र में ले जाया गया." शिवराज ने कहा, "एकतरफा युद्धविराम के कारण पीओके बना. नेहरू कुछ समय इंतजार करते तो समूचा कश्मीर भारत के साथ होता. यह नेहरू की ऐतिहासिक विफलता थी."