न्यूयार्कः अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि अमेरिका अफगानिस्तान से 7000 मील दूर होने के बावजूद वहां आतंकवादियों से लड़ रहा है जबकि भारत और पाकिस्तान उसके पड़ोसी होने के बावजूद ऐसा नहीं कर रहे, लेकिन एक समय आएगा जब भारत, ईरान, रूस और तुर्की जैसे देशों को भी इसके खिलाफ लड़ना होगा। ट्रंप ने अफगानिस्तान में ISIS के फिर से उभरने संबंधी प्रश्न के उत्तर में व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से कहा कि एक समय आएगा, जब रूस, अफगानिस्तान, ईरान, इराक और तुर्की भी अपनी लड़ाई लड़ेंगे।

अफगानिस्तान में ISIS  के फिर से उभरने के सवाल पर ट्रंप ने व्हाइट हाउस में पत्रकारों से कहा, कभी-न-कभी रूस, अफगानिस्तान, भारत, ईरान, इराक, तुर्की को अपनी लड़ाई लड़नी होगी। हमने पूरी तरह से खिलाफत को खत्म कर दिया> मैंने यह रिकॉर्ड समय में किया है, लेकिन ये सभी अन्य देश जहां ISIS उभर रहा है।  कभी न कभी उससे प्रभावित हुए हैं। उन्होंने कहा, इन सभी देशों को उनसे लड़ना होगा ।

ट्रंप ने संकेत दिए है कि अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की पूरी तरह से वापसी नहीं होगी। ट्रंप कहना है कि अमेरिका को इस युद्ध ग्रस्त देश में अपनी मौजूदगी दर्ज करानी ही होगी। ट्रंप ने अपने ओवल कार्यालय में कहा, हमारे पास खुफिया जानकारी रहेंगी और हमारा कोई न कोई वहां हमेशा मौजूद रहेगा। उन्होंने कहा कि हमने अफगानिस्तान से सैनिकों की संख्या कम की है। हम अपने कुछ सैनिकों को वापस ला रहे हैं लेकिन पूरी तरह से कभी भी अफगानिस्तान को अमेरिका खाली नहीं छोड़ेगा।