नई दिल्ली: जी-7 सम्मेलन में हिस्सा लेने फ्रांस पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भरतीय समुदाय को संबोधित किया. फ्रांस की राजधानी पेरिस में यह कार्यक्रम हुआ. 2019 के लोकसभा चुनाव में अप्रत्याशित जीत के बाद पीएम मोदी पहली बार प्रवासी भारतीयों को संबोधित कर रहे हैं. इस दौरान जैसे ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारतीय समुदाय के लोगों के बीच पहुंचे उनके स्वागत में लोगों ने मोदी-मोदी के नारे लगाए. पीएम मोदी ने बीच में उठकर लोगों को शांति बनाए रखने को कहा और पहले राष्ट्रगान के लिए खड़े होने की अपील की.

इसके बाद पीएम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन से पहले यहां पर एक स्मारक का उद्घाटन किया गया. ये स्मारक एयर इंडिया के दो दुर्घटनाग्रस्त विमानों की याद में बनाया गया है, जिसका उद्घाटन अब प्रधानमंत्री के हाथों हुआ है. इसी विमान हादसे में होमी जहांगीर भाभा का निधन हुआ था.

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में क्या-क्या कहा
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा,'' भारत का फ्रांस से रिश्ता कोई नया नहीं है, बल्की काफी पुराना है. इसलिए आज का दिन दोस्ती के नाम है. अच्छी दोस्ती का मतलब ये है कि सुख दुख में एक दूसरे का साथ देना.'' पीएम मोदी ने फ्रांस की फुटबॉल टीम की भी प्रशंशा की और कहा कि फ्रांस की टीम के समर्थक यहां से ज्यादा भारत में हैं और विश्वकप में यह देखने को मिला.''

उन्होंने आगे कहा,'' इस वक्त पेरिस राम में रम गया है. सब लोग राम की भक्ति में डूबे में हैं.'' पीएम मोदी ने कहा,''  4 साल पहले जब फ्रांस आया था तो एक वादा किया था, मैं खुद को वादा याद दिलाने वाला नेता हूं वरना नेता वादा भूल जाते हैं.'' उन्होंने कहा,''नए भारत के निर्माण के लिए जनादेश मिला है और एक बार फिर देश सेवा का मौका मिला है.''

विमान हादसे में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी
इस दौरान उन्होंने 1966 में विमान हादसे में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी और कहा,'' उन गाइड्स और लोगों का शुक्रिया जिन्होंने एयरइंडिया के विमान क्रैश होने के बाद उनके मलबे को ढूंढने की मदद की थी. इस मेमोरियल को बनाने के लिए फ्रांस की सरकार और जनता का भी शुक्रिया.''

सबसे बड़ी हेल्थ स्कीम चलाई
उन्होंने कहा,'' हमने दुनिया में सबसे ज्यादा बैंक खाते खोले, सबसे बड़ी हेल्थ स्कीम चलाई, साथ ही कई ऐसे काम किए जो कोई नहीं कर पाया था.'' इसके अलावा पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया कह रही है कि 2030 तक टीबी खत्म करेंगे, लेकिन भारत इसे 2025 तक ही खत्म कर देगा. इसके अलावा उन्होंने पेरिस समझौते को लेकर क्लाइमेट चेंज पर भारत के योगदान को भी बताया.

नए भारत में भ्रष्टाचार-तीन तलाक-परिवारवाद की जगह नहीं
इस बीच अपने संबोधन में उन्होंने परिवारवाद को लेकर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा,'' ये भी सच है कि पिछले पांच सालों में हमने देश से अनेक कुरीतियों को red card भी दे दिया है. आज नए भारत में भ्रष्टाचार, भाई-भतीजावाद, परिवारवाद, जनता के पैसे की लूट, आतंकवाद पर जिस तरह लगाम कसी जा रही है, वैसा कभी नहीं हुआ.'' उन्होंने कहा,'' हमारी सरकार ने तीन तलाक को खत्म किया, नए भारत में रुकने का सवाल ही नहीं है. हमारी सरकार को अभी 75 दिन ही हुए हैं, मुस्लिम बहन-बेटियों के साथ पहले देश में तीन तलाक जैसी कुप्रथा होती थी. लेकिन हमने इस कुप्रथा को खत्म कर दिया और महिलाओं को समानता का हक दिया.''

अपनी सरकार के कई काम गिनवाए
पेरिस में पीएम मोदी ने अपनी सरकार के कई अन्य कामों का उल्लेख किया. उन्होंने कहा,''हमने पानी को बचाने के लिए अलग से मंत्रालय बनाया है, हमारा चंद्रयान सितंबर में चांद पर उतरने वाला है. हमने चाइल्ड प्रोटेक्शन, हेल्थ के क्षेत्र में बड़े कदम उठाए हैं. उन्होंने कहा कि भारत और फ्रांस एक दूसरे के लिए लड़े भी हैं और जिए भी हैं.''