नई दिल्लीः कर्नाटक के 17 बागी विधायकों की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने जल्द सुनवाई से इंकार किया.जस्टिस रमन्ना ने कहा कि नियमित प्रक्रिया के तहत सुनवाई होगी. दरअसल, बागी विधायकों ने स्पीकर के उस फैसले को चुनौती दी है जिसमें स्पीकर ने दल बदल कानून के तहत इन विधायकों को अयोग्य करार दिया था.

Supreme Court declines to pass order on listing of pleas filed by 17 MLAs seeking direction to quash&set aside the July 25 order of Karnataka Assembly Speaker rejecting their resignations. Pleas also sought quashing of order passed by Speaker disqualifying them from the Assembly pic.twitter.com/1iy4DfrvrI

— ANI (@ANI) September 12, 2019

गौरतलब है कि जुलाई माह में कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस के 17 विधायकों के इस्तीफे के बाद राज्य की कुमारस्वामी सरकार 14 माह बाद गिर गई थी. कुमारस्वामी विश्वास मत के दौरान बहुमत साबित नहीं कर पाए थे. जिसके चलते उन्हें सत्ता से हाथ धोना पड़ा था.

आपको बता दें कि कांग्रेस पार्टी ने सभी बागी विधायकों पर पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगाया था. दरअसल, कांग्रेस के 17 विधायकों ने पार्टी से बगावत करते हुए अपना इस्तीफा सौंपा था, जिसके चलते कांग्रेस पार्टी ने इन सभी विधायकों के खिलाफ दलबदल विरोधी कानून के तहत कार्रवाई की मांग की थी. जिसके बाद तत्कालीन स्पीकर केआर रमेश ने कर्नाटक के मौजूदा विधानसभा में 14 बागी विधायकों के कार्यकाल को अयोग्य घोषित कर दिया था.

इसके बाद 28 जुलाई को तत्कालीन स्पीकर केआर रमेश ने 14 विधायकों को अयोग्य घोषित किया था, जिसके बाद 1 अगस्त को कांग्रेस-जेडीएस के 14 विधायकों ने स्पीकर के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था. इन सभी विधायकों को विधानसभा के पूरे कार्यकाल के लिए अयोग्य घोषित किया गया है.